बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

LATEST NEWS

पटना में भाकपा इस दिन करेगी भाजपा हटाओ देश बचाओ रैली, सितंबर महीने में प्रखंड और अंचल कार्यालयों पर होगा धरना प्रदर्शन

पटना में भाकपा इस दिन करेगी भाजपा हटाओ देश बचाओ रैली, सितंबर महीने में प्रखंड और अंचल कार्यालयों पर होगा धरना प्रदर्शन

PATNA: जैसे-जैसे 2024 का लोकसभा चुनाव नजदीक आ रहा है। वैसे वैसे ही पार्टियों द्वारा अपनी अपनी तैयारी जोरो शोरो से शुरू की जा रही है। केंद्र की मोदी सरकार को हटाने के लिए विपक्ष हर संंभव कोशिश कर रहा है। इसी कड़ी में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी बिहार राज्य परिषद की द्वारा दो दिवसीय बैठक 18-19 अगस्त को जनशक्ति भवन, पटना में आयोजित किया गया। जो कि शनिवार को सम्पन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता रामचंद्र महतो, ओमप्रकाश क्रांति और सुरेंद्र कुमार सिंह मुन्ना की अध्यक्षमंडली ने की। बैठक में जन संघर्ष को तेज करने का आह्वान किया गया। राज्यपरिषद की बैठक में दो नवम्बर 2023 को गांधी मैदान, पटना में आयोजित भाजपा हटाओ देश बचाओ रैली की तैयारी को लेकर कार्य योजना बनाई गई। रैली में तीन लाख लोगों को उतारने का संकल्प लिया गया। रैली की तैयारी को लेकर सितम्बर महीने में पार्टी के शाखा और अंचल सम्मेलन आयोजित किये जायेंगे। केंद्र सरकार की जन विरोधी नीतियों, महंगाई, भ्रष्टाचार के खिलाफ, बिहार को सुखाग्रस्त राज्य घोषित करते हुए किसानों को मुआवजा देने, भूमिहीनों को पांच डिसिमिल भूमि दिलाने तथा गरीबों को उजाड़ने के खिलाफ सहित विभिन्न जन सवालों को लेकर 12,13 और 14 सितम्बर को बिहार के सभी प्रखंडों सह अंचल कार्यालय के मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन आयोजित करने का फैसला लिया गया।

भाकपा के राष्ट्रीय सचिव अतुल कुमार अनजान ने कहा कि पार्टी बिहार में संघर्ष तेज करेगी। दो नवम्बर की रैली ऐतिहासिक होगी। केंद्र की भाजपा नेतृत्व वाली नरेंद्र मोदी सरकार की विनाशकारी आर्थिक नीतियों के कारण महंगाई, भूखमरी, गरीबी, अभाव, कुपोषण, बेरोजगारी बढ़ी है। इस सरकार से देश की जनता तबाह है। जनता को बुनियादी जरूरत के खर्चों में भी कटौती करनी पड़ रही है। यह सरकार आरएसएस के एजेंडों को लागू कर रही है। आर्थिक सुधार के नाम पर सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों को कौड़ी के भाव में बेच रही है और अपने पूंजीपति मित्रों अडानी और अंबानी को दे रही है। भाकपा विपक्षी दलों के गठबंधन इंडिया को मजबूत करेगी। केंद्र सरकार की जन विरोधी आर्थिक नीतियों के खिलाफ क्षेत्रीय स्तर पर सम्मेलन आयोजित कर मोदी सरकार की विनाशकारी नीतियों का भंडा फोड़ किया जाएगा। इंडिया में शामिल दलों से भी सम्मेलन आयोजित करने का आग्रह किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 के बिहार विधान सभा चुनाव के समय बिहार को 125 लाख करोड़ रुपये का पैकेज देने की घोषणा की थी, लेकिन बिहार को यह पैकेज नहीं मिला। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी बिहार को विशेष आर्थिक पैकेज देने के सवालों को लेकर आंदोलन करेगी।

उन्होनें कहा कि विपक्षी दलों के गठबंधन इंडिया बनने से प्रधानमंत्री हताश हैं। प्रधानमंत्री ने हतासा में 15 अगस्त को लाल किला से बोले कि अगले साल में फिर झंडा फहराउंगा। देश की जनता 2024 में ऐसा जनादेश देगी कि 2024 क्या कभी भी लाल किला से संप्रदायिक विचारधारा विरोधी लोगों को तिरंगा फहराने का मौका नहीं मिलेगा। प्रधानमंत्री दूसरे दलों की परिवारवाद पर तो बोलते हैं लेकिन उन्हें भाजपा में परिवारवाद नहीं दिखता है। 15 अगस्त, 2023 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी ने लाल किला से भाषण देते हुए परिवारवाद को देश का प्रमुख दुश्मन बताते हुए इससे भारत को मुक्त किए जाने का आधारहीन वक्तव्य दिया। देश की अर्थव्यवस्था रोजगार का सृजन करने में असफल रहे। प्रति वर्ष 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वायदा 2014 के चुनाव समाओं में मोदी जी का प्रमुख मुद्दा देते हुए 104 सभाओं में घोषणा की थी। यह वायदा पिछले 9 वर्षों में रोजगार देने के स्थान पर रोजगार पर लगे लोगों की नौकरी छीनता चला जा रहा है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय सचिव अतुल कुमार अनजान ने प्रधानमंत्री मोदी के परिवारवाद को "मोदी झूठ की संज्ञा देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री और भाजपा नेताओ कोभाजपा एवं आर. एस. एस. के परिवारवाद का उत्तर देने चाहिए।

भाजपा में शामिल परिवारवाद: 1. राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का पुत्र दुष्यंत सिंह एम.पी 2. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के पुत्र पंकज सिंह एम.एल.ए. महासचिव भाजपा उ. प्रo 3. ठाकुर प्रसाद के पुत्र रवि शंकर प्रसाद पूर्व केन्द्रीय मंत्री 4. वसुधरा राजे के भतीजे केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया 5. गंगाधर फडणवीस के पुत्र मुख्यमंत्री महाराष्ट्र देवेन्द्र फडणवीस 6. भाजपा नेता कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बी. एस. येदरूपा के बेटे वी. वाई. राघवेन्द्र 7. गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह 8. हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम सिंह धूमल के पुत्र केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर 9 दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा के पुत्र दिल्ली सांसद प्रवेश सिंह वर्मा 10. उड़ीसा भाजपा नेता देवेन्द्र प्रधान के पुत्र केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द प्रधान 11. छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमनसिंह के पुत्र अभिषेक सिंह 12. उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा की बहन सांसद रीता बहुगुणा 13 लोकसभा पूर्व अध्यक्ष बलराम जाखड़ के पुत्र पंजाब भाजपा अध्यक्ष सुनील जाखड आदि ।

Suggested News