5.50 लाख का इनामी डकैत एनकाउंटर में ढेर, चित्रकूट के जंगलों में STF की बड़ी कार्रवाई, पीछे लगी थी 7 IPS की टीमें

5.50 लाख का इनामी डकैत एनकाउंटर में ढेर, चित्रकूट के जंगलों में STF की बड़ी कार्रवाई, पीछे लगी थी 7 IPS की टीमें

DESK: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले सरकार सहित पुलिस-प्रशासन फुल एक्शन में नजर आ रही है। जनता को अपनी तरफ रखने के लिए सरकार लगातार गुड गवर्नेंस वाली छवि बनाने में लगी है। इसी कड़ी में देर रात से लेकर अहले सुबह तक यूपी के चित्रकूट के जंगलों में एसटीएफ ने तलाशी अभियान चलाया और मुठभेड़ के बाद दुर्दांत गौरी यादव को मार गिराया।

यूपी एसटीएफ ने चित्रकूट में बड़ी कार्रवाई करते हुए 5.5 लाख के इनामी डकैत गौरी यादव को मुठभेड़ के दौरान मार गिराया। डकैत गौरी यादव के पास से AK- 47 राइफल और तमाम असलहे बरामद हुए है। बताया जा रहा है कि यूपी और एमपी सरकार में इस डकैत पर इनाम घोषित है। बता दें कि गौरी यादव बीहड़ का इकलौता बड़ा डकैत था जिसपर साढ़े पांच लाख का इनाम घोषित होने के बाद अब वह कुख्यात ददुआ, ठोकिया, रागिया की श्रेणी का डकैत हो गया था। शनिवार देर एसटीएफ से मुठभेड़ जारी थी, जिसके बाद एनकाउंटर कर टीम को सफलता मिली। STF के ADG अमिताभ यश के मुताबिकडकैत गोरी यादवके पास से एक AK- 47 राइफल और भारी मात्रा में असलह और कारतूस बरामद किया गया है। इनकी तलाश काफी दिनों से चल रही थी।

7 आईपीएस की टीम ने खेला माइंड गेम

यूपी के चित्रकूट के जंगलों में 7 IPS ने मिलकर उसे पकड़ने की प्लानिंग की थी। इन IPS का जंगल में सर्च ऑपरेशन का लंबा अनुभव है। कई बार डकैतों से मुठभेड़ भी हो चुकी है। टीम का नेतृत्व करने के लिए ये सभी पुलिस अधिकारी खुद जंगल में उतरे थे। पिछले 5 महीने से कांबिंग चल रही थी। पुलिस के मुताबिक, डकैत गौरी यादव का गैंग काफी कमजोर हो गया था। उसके गैंग में ज्यादा सदस्य नहीं बचे थे। गैंग में लगभग 6 या 7 सदस्य ही बचे थे। बारिश बंद होने का पुलिस इंतजार कर रही थी। पहले ही पुलिस ने दावा किया था कि बरसात के मौसम के बाद इसे ढेर कर दिया जाएगा।

दो राज्यों में दर्ज थे 50 से ज्यादा मामले

गौरी यादव पर यूपी और एमपी के विभिन्न थानों में हत्या, अपहरण, फिरौती मांगने और सरकारी काम में बाधा डालने के लगभग 50 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। गौरी यादव चित्रकूट के बहिलपुरवा थाना क्षेत्र के गांव बेलहरी का निवासी है। जिसकी तलाश में यूपी और एमपी की पुलिस लंबे समय से लगी थी।कुख्यात डकैत गौरी यादव ने करीब बीस साल पहले अपराध की दुनिया में कदम रखा था। साल 2013 में दिल्ली पुलिस के दारोगा की हत्या के बाद वह सुर्खियों में आया था...

Find Us on Facebook

Trending News