योगी के राज्य में अपराधियों ने मचाया कत्लेआम : एक ही परिवार के पांच लोगों की ली जान, हत्या से पहले गर्भवती महिला और विकलांग युवती से किया दुष्कर्म

योगी के राज्य में अपराधियों ने मचाया कत्लेआम : एक ही परिवार के पांच लोगों की ली जान, हत्या से पहले गर्भवती महिला और विकलांग युवती से किया दुष्कर्म

PARYAGRAJ : योगीराज 2 में अपराधियों में पुलिस का खौफ खत्म हो गया है। इसका एक बड़ा उदाहरण प्रयागराज से सामने आया है। जहां अपराधियों ने खून का नंगा नाच करते हुए एक ही परिवार के पांच लोगों की बेरहमी से हत्या कर दी है। मरनेवालों में पति-पत्नी, बेटी, गर्भवती बहू और एक 2 साल पोती शामिल है। हत्यारों ने 5 साल की बच्ची पर भी हमला किया। हालांकि, वह बच गई। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

वारदात शहर मुख्यालय से 40 किमी. दूर थरवई थाना क्षेत्र के खेवराजपुर गांव की है। आशंका है कि हत्यारों ने विकलांग बेटी और गर्भवती बहू के साथ रेप भी किया है। क्योंकि, इन दोनों के शरीर के निचले हिस्से पर कपड़े नहीं थे। सिर्फ यही नहीं, वारदात के बाद हत्यारों ने घर में आग लगाने की कोशिश की। 

घर में उठे धूएं के बाद मिली जानकारी

शनिवार तड़के करीब 4 बजे राजकुमार के घर से धुआं उठ रहा था। धुआं उठता देख ग्रामीणों को शक हुआ कि घर में आग लग गई। वह वहां पहुंचे तो देखकर सन्न रह गए। 5 फीट की बाउंड्री के अंदर और घर के बाहर तीन चारपाई में पांच लोगों के खून से सने हुए शव पड़े हुए थे। मरनेवालों में राजकुमार यादव (55) अपने परिवार के साथ रहते थे। परिवार में पत्नी कुसुम (50), एक बेटा सुनील (35), बहू सविता (30), बेटी मनीषा (25) और दो पोतियां साक्षी (5) और मीनाक्षी (2) साल शामिल हैं।

बाहर रहता है बेटा 
 जिस समय यह सामूहिक हत्याकांड को अंजाम दिया गया, उस समय राजकुमार का बेटा सुनील वारदात के वक्त घर पर नहीं था। सुनील की प्रयागराज में प्रयाग स्टेशन (घर से करीब 35 किमी. दूर) के पास पान की दुकान है। ऐसे में वह वहीं किराए का कमरा लेकर रहता है। दो-तीन दिन में एक बार ही घर जाता है। पुलिस ने वारदात की सूचना बेटे को दी तो वह रोता-बिलखता मौके पर पहुंचा। वहां परिवार के पांच सदस्यों की लाशों को देखकर वह बेसुध हो गया। 

विकलांग बहन और गर्भवती बीवी से रेप की आशंका
 रोते-बिलखते बेटे सुनील ने बताया कि उसकी पत्नी मनीषा पांच महीने की गर्भवती थी। जबकि बहन विकलांग थी। दोनों के साथ रेप की आशंका जाहिर की है। क्योंकि, दोनों के शरीर के निचले हिस्से में कपड़े नहीं थे। ग्रामीणों की आंशका है कि रेप के बाद हत्या की गई है। हालांकि, पुलिस  पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने का इंतजार कर रही है। 

300 मीटर तक नहीं है कोई मकान
 राजकुमार का घर गांव के एक कोने में था। यानी, इनके घर से करीब 300 मीटर की दूरी तक कोई दूसरा मकान नहीं था। सिर्फ यही नहीं, घर के बाहर चारों तरफ करीब 5-6 फीट की बाउंड्री है। इसके बाद बरामदा और फिर कमरे बने हुए हैं। 

डॉग स्क्वायड भी रहा नाकाम

सामूहिक हत्याकांड की खबर से पुलिस के हाथ-पांव फूल गए। पुलिस ने तुरंत फॉरेंसिक व डॉग स्कवॉयड को मौके पर बुलाया। डॉग गांव की तरफ 300 मीटर तक गए और फिर वहीं बैठ गए। ऐसे में पुलिस को शक है कि हत्यारे वारदात को अंजाम देने के बाद गांव की तरफ से ही भागे हैं

सीएम ने एसटीएफ को सौंपी जिम्मेदारी

वीभत्स हत्याकांड से प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े हो गए। इसके बाद योगी सरकार ने लखनऊ एसटीएफ को इस पूरे मामले की जांच सौंप दी है। लखनऊ एसटीएफ प्रयागराज के लिए रवाना हो गई है।


Find Us on Facebook

Trending News