दस साल तक नहीं बनी मां तो पति ने जुए में दांव पर लगाया, प्रताड़ना की सभी हदें हो गई पार

दस साल तक नहीं बनी मां तो पति ने जुए में दांव पर लगाया, प्रताड़ना की सभी हदें हो गई पार

भागलपुर। महाभारत काल द्रौपदी के जुआ में हारने के बाद चीरहरण की घटना तो आपने सुनी है। लेकिन कलयुग में भी जुआ में हारने के बाद पति द्वारा पत्नी को अन्य जुआरियों के हवाले करने का मामला सामने आया है। 

पीड़िता महादलित परिवार से है और शादी के 10 साल बाद भी माँ नहीं बन पाने की सजा मिली है। पीड़िता को उसके पति सरोज हरिजन ने बड़ी क्रूरता से प्रताड़ित किया है। सजा के तौर पर पूरे शरीर को तेजाब से नहलाना, गुप्तांग में तेजाब डालने जैसी घटना को अंजाम देना, बंद दरवाजे के अंदर कैद रखना पीड़िता के लिए नियति बन गई थी। पीड़िता ने बताया कि कुछ दिन पहले उसने शराब के नशे में मेरे साथ मारपीट की और कपड़े फाड़कर अपने दोस्तों के बीच भेज दिया।


पीड़िता अपने ससुराल हसनगंज, मोजाहिदपुर से किसी तरह जान बचाकर रात में अपने मायके जिच्छो गांव, लोदीपुर पहुंची। घटना 2 नवम्बर की है। तब पति द्वारा एसिड उड़ेलने के मामले को लेकर अस्पताल में इलाज भी हुआ था। लेकिन ससुराल वाले के डर से पुलिस के पास  नहीं गई। लेकिन अब जब मायके पहुंची और गांव वालों को जानकारी हुई तो सारा मामला सामने आ गया। गांव के संभ्रांत और बीजेपी नेता दीपक सिंह ने बताया कि गांव की बेटी है। चाहे किसी जाति से हो। न्याय के लिए कानून के रक्षक से पूरी मदद कराएंगे।

Find Us on Facebook

Trending News