नफरती बयानों को लेकर विवादों में धर्म संसद , हिंदू महापंचायत के कई समर्थक हिरासत में

नफरती बयानों को लेकर विवादों में धर्म संसद , हिंदू महापंचायत के कई समर्थक हिरासत में

DESK. संभावित तनाव और सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने की आशंका को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड के में होने वाली धर्म संसद पर रोक लगा दी. अब इसे लेकर पुलिस ने भी जोरदार सख्ती दिखाई है और कई आयोजकों को हिरासत में लिया है. उत्तराखंड में होने वाली महापंचायत को लेकर सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद रुड़की पुलिस ने धर्म संसद पर रोक लगा दी है. पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने हिंदू महापंचायत से पहले मुख्य संयोजक दिनेशानंद भारती और उनके कई समर्थकों को हिरासत में ले लिया है.

पुलिस ने आनंद स्वरूप को भी हिसारत में लिया है और पूरे रुड़की शहर में धारा 144 लागू कर दी ह.। एक दिन पहले मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सख्ती दिखाई थी. कोर्ट ने कहा था कि नफरत भरे बयानों को रोका नहीं गया तो मुख्य सचिव इसके लिए जिम्मेदार होंगे. कोर्ट ने कहा था कि हेट स्पीच रोकने के लिए सभी कड़े कदम उठाएं. पुलिस की कार्रवाई के बाद तनाव भरा माहौल है. एहतियातन संवेदनशील इलाकों में पुलिस का पहरा बढ़ा दिया गया है.

इस बीच, प्रशासन द्वारा धर्म संसद पर रोक लगाने के बाद अब आयोजकों और प्रशासन के बीच टकराव के हालात बन गए हैं. आयोजकों का कहना है कि धर्म संसद हर हाल में होगी, चाहे थाने में ही महापंचायत क्यों न करनी पड़े. पुलिस ने इस मामले में आयोजकों के खिलाफ केस भी दर्ज किया है. इलाके में कोई उपद्रव नहीं हो, इसके लिए ड्रोन से निगाह रखी जा रही है.

हरिद्वार के भगवानपुर इलाके में हाल ही में हुई हिंसा और पथराव के मुद्दे पर जहां चर्चा होनी थी वहां प्रशासन ने महापंचायत आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है. हरिद्वार के भगवानपुर इलाके में 16 अप्रैल को एक धार्मिक जुलूस के दौरान हिंसा भड़क गई थी, जिसमें कई लोग घायल हो गए थे। पुलिस ने मामले में कई गिरफ्तारियां की हैं.


Find Us on Facebook

Trending News