अरविंद केजरीवाल की कथनी और करनी में फर्क, अन्ना हजारे ने साधा निशाना – सत्ता के नशे में आप सरकार

अरविंद केजरीवाल की कथनी और करनी में फर्क, अन्ना हजारे ने साधा निशाना – सत्ता के नशे में आप सरकार

DESK. सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने आप संयोजक और उनके पूर्व सहयोगी अरविंद केजरीवाल को सत्ता के नशे में बताकर कटाक्ष किया है. कथित दिल्ली शराब घोटाले पर एक दूसरे पर निशाना साधते आप और बीजेपी की जंग में मंगलवार को एक नया ट्विस्ट आ गया है। सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने आप संयोजक और उनके पूर्व सहयोगी अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है। केजरीवाल को संबोधित एक पत्र में अन्ना हजारे ने दिल्ली के सीएम को अपने इंडिया अगेंस्ट करप्शन के दिनों में शराब की दुकानों से संबंधित अपने रुख की याद दिलाई। अन्ना हजारे ने कहा कि आपकी सरकार ने लोगों के जीवन को बर्बाद करनेवाली, महिलाओं को प्रभावित करने वाली शराब नीति बनाई है। आपकी कथनी और करनी में फर्क है। इसके साथ ही उन्होंने आप संयोजक द्वारा लिए गए यू-टर्न पर अफसोस जताया।

अन्ना हजारे ने अपने पत्र में कहा कि महाराष्ट्र में 35 जिलो में 252 तहसिल में संगठन बनाया। भ्रष्टाचार के विरोध में तथा व्यवस्था परिवर्तन के लिए लगातार आंदोलन किए। इस कारण महाराष्ट्र में 10 कानून बन गए। शुरू में हमने गाँव में चलनेवाली 35 शराब की भट्टियां बंद की। आप लोकपाल आंदोलन के कारण हमारे साथ जुड़ गए। तब से आप और मनिष सिसोदिया कई बार रालेगणसिद्धी गाँव में आ चुके हैं। गाँववालों ने किया हुआ काम आपने देखा है। पिछले 35 साल से गाँव में शराब, बिडी, सिगारेट बिक्री के लिए नहीं हैं। यह देखकर आप प्रेरित हुए थे। आप ने इस बात की प्रशंसा भी की थी।

समस्या: वर्तमान में राजनेताओं की सिफारिश पर अधिकारी शराब की दुकानें खोलने के लिए लाइसेंस देते हैं। वे रिश्वत लेने के बाद लाइसेंस देते हैं। शराब की दुकानों के कारण कई कठिनाइयां होती हैं। लोगों का पारिवारिक जीवन नष्ट हो जाता है। जो इससे सीधे तौर पर प्रभावित हैं उन्हें इस बात के लिए कोई नहीं पूछता कि क्या शराब की दुकानें खोली जानी चाहिए। शराब की दुकानें उन पर थोपी जाती हैं।" 

इस पर टिप्पणी करते हुए अन्ना हजारे ने लिखा, 'राजनीति में शामिल होने और सीएम बनने के बाद ऐसा लगता है कि आप अपने सिद्धांतों और विचारधारा को भूल गए। इसलिए आपकी सरकार ने दिल्ली में नई शराब नीति बनाई। ऐसा लगता है कि इससे शराब की बिक्री को गति मिलेगी।  हर गली में शराब की दुकानें खोली जा सकती हैं। इससे भ्रष्टाचार में वृद्धि हो सकती है। यह लोगों के हित में नहीं है"। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि केजरीवाल सत्ता के नशे में हैं।


Find Us on Facebook

Trending News