विधानपरिषद की कार्यवाही के दौरान सवालों के जवाब पाने के लिए नहीं होगी परेशानी, पहली बार सदन में की जा रही है यह व्यवस्था

विधानपरिषद की कार्यवाही के दौरान सवालों के जवाब पाने के लिए नहीं होगी परेशानी, पहली बार सदन में की जा रही है यह व्यवस्था

PATNA : बिहार विधानपरिषद की कार्यवाही के दौरान अक्सर माननियों को इस बात की शिकायत रहती है कि उन्होंने अपने क्षेत्र की समस्या को लेकर जो सवाल किए, वह सदन में प्रस्तुत नहीं किए गए। कम समय के कारण कई बार ऐसा होता रहा है। लेकिन इस बार बिहार विधानपरिषद में इस शिकायत को दूर करने की कोशिश की जा रही है। पहली बार बिहार विधान परिषद में ई-सदन की शुरुआत की जा रही है। भारत में बिहार विधान परिषद ऐसा पहला सदन बनने जा रहा है, जहां इस तरह की व्यवस्था की जा रही है। ई-सदन की शुरुआत कल सीएम नीतीश कुमार करेंगे।

विधान परिषद के सभापति अवधेश नारायण सिंह ने बताया कि हमारे विधान परिषद देश का पहला सदन है जहां e sadan की शुरुआत की जा रही है। इस नई व्यवस्था हर सवाल का जवाब सदन में आ जायेगा। पूर्व में यह नही हो पाता था। प्रश्नोत्तर काल,ध्यानाकर्षण में सारे सवाल का जवाब मिलेगा। जनता की समस्याओं को निदान होगा। हमारी सारी समितियों का काम सुचारू रूप से चल सकेगा। कोई भी सदस्य अपनी समस्याओं को सुना सकते है। ऑनलाइन सवाल का जवाब ऑनलाइन जवाब मिलेगा। हमसब डिजिटल रिकार्ड बना रहे है। ताकि दो-तीन साल बाद भी दस्तावेज बना रहेगा।

ई सदन का उदघाट्न सीएम नीतीश कुमार करेंगे। 25 नवंबर को सुबह 9 बजकर 30 बजे सीएम नीतीश कुमार इसका उदघाट्न करेंगे।  केद्रीय मंत्री को हमने निमंत्रण दिया है। उन्हें आने की संभावना है। विधान परिषद के सभी सदस्य उस दिन हाउस में रहेंगे। इस दौरान सदन में सदस्यों द्वारा तोड़ फोड़ के सवाल पर सभापति अवधेश नारायण सिंह ने कहा कि सदन के सदस्यों के कार्यव्यवहार के लिए एथिक्स कमिटी बनी हुई है। यह कमिटी सदस्यों पर नजर रखा करती है। हमारे सभी सदस्य अनुशासन में रहते हैं। शीतकालीन सत्र शांतिपूर्ण तरीके से चलेगी। अपर हाउस को लेकर यहां कोई डिस्टरबेंस नही होगी। आसन की ओर से जो बातें बोली जाती है उसे सदस्य लोग मानते हैं।

Find Us on Facebook

Trending News