सीएम योगी और मायावती को EC की नोटिस, जवाब देने के लिए आज शाम तक का दिया समय

सीएम योगी और मायावती को EC की नोटिस, जवाब देने के लिए आज शाम तक का दिया समय

NEWS4NATION DESK : लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान नेताओं द्वारा मर्यादा की सीमा को पारकर अपने विपक्षी पर बयानबाजी की जा रही है। चुनाव आयोग द्वारा बार-बार आचार संहिता का पालन करने के निर्देश दिए जाने के बावजूद नेताओं द्वारा की जा रही बेजुबानी को चुनाव आयोग ने गंभीरता से लिया है। इस मामले को लेकर गुरुवार को आयोग ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ और बीएसपी सुप्रीमो को उनके बयानों पर नोटिस भेजकर स्पष्टीकरण मांगा है। दोनों ही नेताओं के बयानों के सांप्रदायिक होने का आरोप है और इस पर आयोग ने संज्ञान लिया।

आज शाम तक देना होगा स्पष्टीकरण

चुनाव आयोग ने प्राथमिक जांच के बाद योगी आदित्यनाथ के बयान को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना और नोटिस जारी कर शुक्रवार की शाम तक जवाब दाखिल करने को समय दिया है। वहीं बीएसपी सुप्रीमो मायावती को भी शुक्रवार तक अपने बयान की सफाई का मौका दिया गया है। आयोग ने मायावती को चुनाव कोड के उल्लंघन का दोषी मानने के साथ ही सेक्शन 123 (3) के तहत जनप्रतिनिधि कानून 1951 के उल्लंघन का भी दोषी माना है। इस कानून के तहहत उम्मीदवार धार्मिक आधार पर मतदान की मांग नहीं कर सकते न मतदाताओं को धर्म के आधार पर मतदान के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

उत्तर प्रदेश के सीएम ने अली-बजरंगबली बयान दिया था
 बता दें कि मेरठ में चुनाव प्रचार के दौरान 9 अप्रैल को सीएम योगी आदित्यनाथ के दिए भाषण पर आयोग ने नोटिस भेजा है। चुनाव प्रचार के दौरान आदित्यनाथ ने कहा था, 'एसपी-बीएसपी को अली में यकीन है। हमें भी यकीन है बजरंगबली में।' 
 
 योगी को आयोग का यह दूसरा नोटिस
 आयोग के सूत्रों का कहना है कि उत्तर प्रदेश के सीएम को यह दूसरा नोटिस जारी किया गया है। इससे पहले उन्हें मोदीजी की सेना कहने के लिए आयोग ने चेतावनी देते हुए भविष्य में अतिरिक्त सतर्कता बरतने की हिदायत दी थी।

मायावती ने मुसलमानों से की थी अपील
 मायावती ने मुसलमानों से एसपी-बीएसपी गठबंधन के पक्ष में वोट देने की अपील की थी और कहा था कि अगर वे कांग्रेस को वोट देंगे तो इससे उनका वोट बंट जाएगा। मायावती ने कहा था, 'मैं एक खुली अपील करना चाहती हूं। बीजेपी से कांग्रेस नहीं, बल्कि गठबंधन लड़ रहा है। कांग्रेस चाहती है कि गठबंधन की जीत न हो। कांग्रेस इस चुनाव में बीजेपी की मदद करने की कोशिश कर रही है।' 

Find Us on Facebook

Trending News