सीएम नीतीश ने जहाँ से की थी नल का जल योजना की शुरुआत, 5 साल बाद भी कई वार्डों में लोगों को है शुद्ध पेयजल का इन्तजार

सीएम नीतीश ने जहाँ से की थी नल का जल योजना की शुरुआत, 5 साल बाद भी कई वार्डों में लोगों को है शुद्ध पेयजल का इन्तजार

MOTIHARI : मोतिहारी के अरेराज नगर पंचायत में कछुए गति से सीएम का ड्रीम प्रोजेक्ट नल जल का कार्य चल रहा है। प्रशासनिक उदासीनता के कारण कार्य शुरू होने के पांच वर्ष बाद भी 14 में 8 वार्ड के लोग शुद्ध पेयजल के लिए तरस रहे है। सीएम नीतीश कुमार ने बिहार में सबसे पहले इसी नगर पंचायत से अपने ड्रीम प्रोजेक्ट का शुरुआत किया था। लेकिन उनके अधिकारी के कारण उनका ड्रीम प्रोजेक्ट दम तोड़ रहा है। वही अधिकारी की रिपोर्ट पर सीएम द्वारा कुछ माह पहले सभी वार्डो के नलजल का रिमोट से उद्घाटन भी कर दिया गया। लेकिन धरातल पर कुछ अलग ही बयाँ कर रहा है। आज भी 8 वार्ड के लोग शुद्ध पेयजल के लिए तरस रहे है। वही जेई बिना कार्य पूर्ण हुए ही नल के पास फोटो खिंचवा कागजी घोड़ा दौड़ाने में जुटे है। प्रति वार्ड 25 से 30 लाख खर्च करने के बाद भी धरातल पर नलजल योजना नही उतरा है। 14 वार्ड के अरेराज नगर पंचायत में पांच वर्ष में मात्र 06 वार्ड में ही नलजल का कार्य हो सका पूरा हो सका। 

बताते चलें की बिहार का पहला नगर पंचायत अरेराज है। जहाँ 8 नवम्बर 2016 में नलजल योजना की शुरुआत सीएम द्वारा किया गया था। शुरुआत होने के पांच वर्ष गुजरने के बाद भी प्रशासनिक उदासीनता के कारण आजतक मुख्यमंत्री की ड्रीम प्रोजेक्ट का लाभ नगर वासियों को नही मिल सका। 14 वार्डो के नगर पंचायत में पांच वर्ष बीतने के बाद भी मात्र 06 वार्ड के नलजल योजना शुरू किया जा सका है। वही बाकी 08 वार्ड के ग्रामीण आज भी शुद्ध पेयजल के लिए तरस रहे है। कही पाइप लगा है तो टंकी नही लगा। नगर पंचायत ने बिना कार्य पूर्ण किये ही वार्डवार नलजल योजना शुरू होने का रिपोर्ट व फोटो भी लोड कर दिया। नगर पंचायत के रिपोर्ट पर बिना कार्य पूरा हुए सरकार द्वारा सभी वार्ड में बने नलजल का रिमोट से अगस्त माह में उद्घाटन भी कर दिया गया। लेकिन धरातल की तस्वीर कुछ अलग ही बयां कर रही है। नगर वासी प्रमोद कुमार,सन्नी प्रसाद,वंशी साह ,कलाम मिया ने बताया कि पांच वर्ष से शुद्ध पेयजल मिलने की आस लगाए हुए है। वार्ड में नलजल योजना के लिए कुछ दिन पहले पाइप भी लगाया गया। लेकिन आजतक नलजल योजना शुरू नही हुआ। संवेदक व पदाधिकारी की उदासीनता के कारण घटिया स्तर की कार्य हो रहा है। वह भी कछुए की गति से कार्य चल रहा है। वार्ड में लगाये गए पाइप की गहराई,पाइप की क्वालिटी व कार्य की गुणवत्ता की सूक्ष्म तरीके से जांच कर दिया जाय तो बड़ी खुलासा हो सकता है। नल जल योजना लूट योजना बनकर रह गया। जिसके कारण बोतल की पानी खरीदकर पीने की मजबूरी है। 

नगर पंचायत के कार्यालय सूत्रों के अनुसार प्रति वार्ड नलजल योजना के लिए 25 से 30 लाख रुपया खर्च करने का बजट था। लगभग साढ़े तीन करोड़ खर्च के बाद भी 08 वार्ड के नगरवासी को नही मिल रहा है। शुद्ध पेयजल .वार्ड 11,12,13,14, 02 व 03 में नलजल योजना सुचारू है। वही वार्ड 09,10,08,05,04,07,06 व 04 में नलजल योजना शुरू नही होने से शुद्ध पेयजल से वार्डवासी वंचित है। वही वार्ड 05 में विभाग के जेई के द्वारा नलजल योजना चालू होने की तस्वीर घर वाले के साथ खिंचकर अपलोड किया गया है। लेकिन वार्ड वासी आज भी खरीदकर पानी पीने को मजबूर है। 

नगर पंचायत के मुख्य पार्षद धर्मेंद्र कुमार उर्फ मंटू दुबे ने बताया कि पाइपिंग का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। टंकी बनाने का कार्य अंतिम चरण में है। कुछ वार्ड में टंकी बनाने वाले  स्थल पर पानी होने की समस्या से बिलंब हुआ है। जल्द ही कार्य को पूर्ण कर नलजल योजना को शुरू कर दिया जाएगा। सभी संवेदक को यथाशीघ् कार्य पूरा करने का निर्देश दिया गया है। 

मोतिहारी से हिमांशु की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News