फर्जी सर्टिफिकेट पर नौकरी कर रही थी शिक्षिका, अपनी इस गलती के कारण आ गई पकड़ में

फर्जी सर्टिफिकेट पर नौकरी कर रही थी शिक्षिका, अपनी इस गलती के कारण आ गई पकड़ में

कैमूर।  जिले के बेलाँव प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय बेलान्व में एक शिछीका जाली सर्टिफिकेट पर नौकरी करते पकड़ी गई। शिक्षा विभाग की तरफ से दो बार शो-काज पूछा गया जिसके बाद जवाब संतोषजनक नहीं पाया गया। फिर पंचायत सचिव द्वारा शिक्षिका से शो-काज पूछा गया है। संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर शिक्षिका पर प्राथमिकी दर्ज होगी, साथ ही पैसा वसूलने की तैयारी भी शुरू होगी। मैट्रिक के प्रमाण पत्र पर शिक्षिका को नौकरी मिला था जिसमें वह प्रथम श्रेणी से पास होने का जाली प्रमाण पत्र दिया था। वही जब दोबारा प्रमाण पत्र का जांच किया गया तो महिला ने सेकेंड डिवीजन का प्रमाण पत्र पेश किया। जिसके बाद उसे शो-काज पूछा गया ।

मामले में डीपीओ रामपुर प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय बेलान्व का है। शिछिका का नाम संजू कुमारी है जिससे  दो बार स्पष्टीकरण पूछा गया है जिसमें जवाब असन्तोष जनक मिला है। पंचायत सचिव के द्वारा फिर स्पष्टीकरण पूछा गया है, पंचायत सचिव के स्पष्टीकरण के जवाब आने के बाद कार्रवाई होगी। प्रथम दृष्टया फर्जीवाड़ा का मामला लग रहा है ।

जानकारी देते हुए डीपीओ स्थापना दयाशंकर ने बताया शिक्षिका का नियोजन मैट्रिक के सर्टिफिकेट के आधार पर हुआ था जिसमें वह फर्स्ट डिवीजन दिखाया था। जब अभी प्रमाण पत्र जांच के लिए मांगा गया तो सेकंड डिवीजन दिखाया गया है। मेघा सूची फर्स्ट डिवीजन के आधार पर बना था, अब सेकंड डिवीजन दिखा रही हैं । इससे स्पष्ट है कि नियुक्ति सही तरीके से नहीं हुई है। प्रथम दृष्टया फर्जीवाड़ा का मामला लग रहा है । उन्होंने गलत तरीके से नियुक्ति पाई है इसलिए अब कार्रवाई होगी ।

Find Us on Facebook

Trending News