राफेल डील पर फ्रेंच पोर्टल का दावा : 65 करोड़ रुपये रिश्वत दी गयी, पता होने के बाद भी CBI और ED ने शुरू नहीं की जांच

राफेल डील पर फ्रेंच पोर्टल का दावा : 65 करोड़ रुपये रिश्वत दी गयी, पता होने के बाद भी CBI और ED ने शुरू नहीं की जांच

Desk. फ्रांस के पोर्टल मीडियापार्ट की रिपोर्ट के अनुसार राफेल लड़ाकू विमान की खरीदारी में बड़ा घोटाला हुआ है.  पोर्टल ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि भारत और फ्रांस के बीच हुई राफेल लड़ाकू विमानों की डील में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है. इसमें बिचौलिये के जरिये 7.5 मिलियन यूरो अर्थात 65 करोड़ रुपये का कमीशन दिया गया है. साथ ही मीडियापार्ट ने ये भी बताया है कि डॉक्युमेंट्स होने के बावजूद भी भारतीय एजेंसियों ने इसकी जांच नहीं की.

पोर्टल के अनुसार सीबीआई और ईडी के पास इस कमीशन का सबूत था, लेकिन दोनों ही एजेंसियों ने इस पर जांच शुरू नहीं की. पोर्ट का कहना है कि सीबीआई और ईडी के पास अक्टूबर 2018 से सबूत मौजूद हैं कि डसॉल्ट ने राफेल जेट की बिक्री को सुरक्षित करने के लिए सुशेन गुप्ता को रिश्वत दी थी. लेकिन इसके बाद भी एजेंसी ने जांच नहीं की. बता दें कि सुशेन गुप्ता पर अगस्ता वेस्टलैंड से मॉरीशस में रजिस्टर्ड एक शेल कंपनी के जरिए रिश्वत लेने का आरोप है. वह अगस्ता वेस्टलैंड डील से भी जुड़ा था.

फ्रांस में गरमाई राजनीति

वहीं इस रिपोर्ट के बाद फ्रांस में राजनीति पारा चढ़ गया है. बताया जा रहा है कि यह ऑनलाइन जर्नल 59,000 करोड़ रुपए के राफेल सौदे में भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच कर रहा है. 'राफेल पेपर्स' पर मेडियापार्ट की जांच ने जुलाई में फ्रांस में राजनीति काफी गरमा दी थी. रिपोर्ट सामने आने के बाद इस मामले में भ्रष्टाचार और पक्षपात के आरोपों में न्यायिक जांच शुरू की.


Find Us on Facebook

Trending News