गांधी मैदान में तेजस्वी के धरना देने पर जिला प्रशासन ने लगाई रोक, धरना स्थल से हटाया सामान

गांधी मैदान में तेजस्वी के धरना देने पर जिला प्रशासन ने लगाई रोक, धरना स्थल से हटाया सामान

पटना... किसान आंदोलन को लेकर राजद आज धरना देने वाली थी, लेकिन इस बीच बड़ी खबर यह है कि धरना की अनुमति जिला प्रशासन नहीं दी है। सुबह से ही राजद कार्यकर्ता गांधी मैदान में जुटने लगे थे। धरना को लेकर सारी व्यवस्था की गई थी। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी समेत बड़े नेताओं को बैठने के लिए गांधी मूर्ति के ठीक नीचे दरी व माइक की व्यवथा की जा रही थी, तभी जिलाप्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और धरना स्थल से सामान को हटाने लगी। 

राजद के किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष सुबोध कुमार यादव ने बताया कि जिला प्रशासन नहीं दी है और यही कारण है कि हम लोगों को धरना स्थल से हटने के लिए कहा जा रहा है। जिला प्रशासन से हमलोगों ने अनुमति मांगी थी, लेकिन जानबूझ कर जिला प्रशासन ने सरकार के इशारे पर काम करते हुए धरना की अनुमति नहीं दी है। 

गौरतलब है कि बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने केंद्र के नए कृषि कानूनों को किसान विरोधी बताते हुए आंदोलन का ऐलान किया है। उनकी अगुवाई में महागठबंधन के नेता आज यानी शनिवार को गांधी मैदान में गांधी प्रतिमा के समक्ष धरना देंगे। शुक्रवार को राजद कार्यालय में बातचीत में उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र के किसान और मजदूर विरोधी फैसलों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी सहभागी हैं। केंद्र सरकार आज जो बातचीत कर रही है, वह कानून बनाने से पहले होनी चाहिए थी। उन्होंने राज्य के सभी किसानों और संगठनों से बिल के खिलाफ सड़कों पर उतरने की अपील की। 

केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए नये कृषि कानून को वापस लेने के लिए किसान आंदोलन जारी है और बड़ी संख्या में दिल्ली के बॉर्डर पर किसान सड़कों पर हैं। खास तौर पर दिल्ली, पंजाब व हरियाणा में किसान इसको लेकर मुखरता के साथ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं, बिहार में बड़े स्तर पर कृषि कानून का विरोध सड़कों पर होता नहीं दिख रहा है।

बता दें कि केंद्र सरकार जिस तरह का कानून लाई है वो पहले बिहार में लागू हो चुका है। अब किसान संगठनों की ओर से कहा जा रहा है कि नए कानून से बिहार के किसानों को नुकसान हुआ है, ऐसे में सरकार को बिहार से सबक लेकर इन कानूनों को वापस लेना चाहिए।

वहीं, दूसरी ओर जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव वैसे लोगों में शामिल हैं जो अकारण किसी विषय का विरोध करते हैं। कृषि कानून पर उन्हें बोलने का हक नहीं है क्योंकि उनके पिता तो किसानों के पशुओं का चारा ही खा गए थे।

Find Us on Facebook

Trending News