राष्ट्रीय स्वच्छता रैंकिंग में गया के खराब प्रदर्शन से "स्मार्ट सिटी" बनने में बाधा - कांग्रेस

राष्ट्रीय स्वच्छता रैंकिंग में गया के खराब प्रदर्शन से "स्मार्ट सिटी" बनने में बाधा - कांग्रेस

GAYA : अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सदस्य सह मगध प्रमंडल कांग्रेस प्रवक्ता सह गया महानगर विकास संघर्ष समिति के संयोजक प्रो. विजय कुमार मिठू, डॉ मदन कुमार सिन्हा, प्रो. अरुण कुमार प्रसाद, शशि किशोर शिशु, बैजू प्रसाद, बाबूलाल प्रसाद सिंह,ओंकार नाथ सिंह, अमरजीत कुमार, टिंकू गिरी, शिव कुमार चौरसिया, सकलदेव चंद्रवंशी, कमलेश चंद्रवंशी, संटू सिन्हा आदि ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर आए स्वच्छता सर्वेक्षण रैंकिंग में गया शहर देश के सबसे गंदा शहर में आने से अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त, विश्व पर्यटन मानचित्र पर अपना स्थान रखने के बावजूद देश के स्मार्ट शहरों की सूची में शामिल करने में बाधा हुई है.


नेताओ ने कहा की देश के स्मार्ट शहरों की सूची में शामिल होने के लिए विगत दो वर्षो से गया नगर निगम को केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा समय देकर सभी पैमानों को ठीक करने का अवसर दिया गया था. लेकिन निगम एवं उसके पदाधिकारियों द्वारा सही ढंग से काम नहीं करने के कारण ऐसा हुआ है. 

उन्होंने कहा की कांग्रेस पार्टी गया शहर के जनता के सहयोग से विगत तीन वर्षो से गया शहर को देश के स्मार्ट शहरों की सूची में शामिल करने हेतु संघर्ष कर रही है. साथ ही दर्जनों बार केंद्रीय शहरी विकास मंत्री को ज्ञापन भी भेजा गया है. जिसमें मंत्रालय द्वारा गया नगर निगम को कुछ बिंदुओं पर काम में तेजी लाने का भी निर्देश दिया गया था. इस संबंध में गया नगर निगम का प्रतिनिधि मंडल भी केंद्रीय शहरी विकास मंत्री से यहां के तत्कालीन सांसद हरि मांझी के साथ सन् 2018 में मिला भी था. लेकिन अपसोस इस बात का है कि गया नगर निगम विगत दो वर्षो में भी स्वच्छता रैंकिंग नहीं सुधार पाया.


नेताओ ने कहा की आज अगर गया शहर के राष्ट्रीय स्वच्छता रैंकिंग में सुधार आता तो हम लोगो द्वारा वर्षों से गया शहर को देश के स्मार्ट शहरों की सूची में शामिल कराने के आंदोलन को बल मिलता. इसके बावजूद कांग्रेस पार्टी गया को स्मार्ट शहर में शामिल करने का संघर्ष जारी रखेगा. 

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News