बिहार के 3700 स्कूलों में पढ़ाई भगवान भरोसे, मात्र एक शिक्षक ही है; 2 लाख 22 हजार से अधिक टीचरों की जरूरत

बिहार के 3700 स्कूलों में पढ़ाई भगवान भरोसे, मात्र एक शिक्षक ही है; 2 लाख 22 हजार से अधिक टीचरों की जरूरत

Desk. शिक्षा व्यवस्था को लेकर वैश्विक संस्था यूनेस्को ने एक रिपोर्ट जारी की है. इसमें बिहार की शिक्षा व्यवस्था को भी चौपट बताया गया है. रिपोर्ट के अनुसार बिहार के 3700 स्कूल में मात्र एक ही शिक्षक है. यह शिक्षक शैक्षणिक और प्रशासनिक दोनों काम करते हैं. वहीं प्रदेश के स्कूलों में शिक्षकों की क्षमता का 59 प्रतिशत पद खाली है. इसमें ग्रामीण क्षेत्रों में 89 शिक्षकों की जरूरत है. यूनिस्को ने यह रिपोर्ट जिले स्तर पर डाटा एकत्रित कर जारी किया है.

बिहार में दो लाख से ज्यादा शिक्षकों की जरूरत 

यूनेस्को ने 'वर्ल्ड टीचर डे' पर शिक्ष व्यवस्था को लेकर रिपोर्ट जारी की है. इसमें पूरे देश में 11 लाख शिक्षकों के पद खाली है. रिपोर्ट के अनुसार देश के एक लाख से ज्यादा स्कूल में मात्र एक शिक्षक है. वहीं बिहार में दो लाख 22 हजार 316 शिक्षकों के पद खाली है. रिपोर्ट में शिक्षकों की योग्यत पर भी सवाल खड़ा किया गया है, जिसमें अधिकांश प्राथमिक स्कूल के शिक्षक है. वहीं स्कूल के इंफ्रास्ट्रक्चर को भी फिसड्डी बताया गया है. रिपोर्ट के अनुसार स्कूलों में बिजली, पानी और शौचालय की बेहतर व्यवस्था नहीं है.

गांव से 15 किलोमीटर के आंदर नहीं हो रही नियुक्ति

वहीं रिपोर्ट में बताया गया है कि सरकार शिक्षकों को उनके गांव से 15 किलोमीटर के आंदर नियुक्त किये जाने के नियम को क्रियान्वयन नहीं कर पाई है. इसका असर महिला शिक्षक पर देखने को मिला है. महिला दूरी होने के चलते शिक्षक नहीं बनना चाहती है.   

Find Us on Facebook

Trending News