नालंदा में सैकड़ों रसोइयों ने कलेक्ट्रेट का किया घेराव, सरकार के सामने रखी मानदेय बढ़ाने सहित 13 सूत्री मांगे

नालंदा में सैकड़ों रसोइयों ने कलेक्ट्रेट का किया घेराव, सरकार के सामने रखी मानदेय बढ़ाने सहित 13 सूत्री मांगे

NALANDA : विभिन्न मांगों को लेकर राष्ट्रीय मध्यान भोजन रसोईया फ्रंट के बैनर तले एक दिवसीय हड़ताल के दौरान कलेक्ट्रेट का घेराव करते हुए प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर संघ के सदस्यों ने कहा कि प्रधानमंत्री पोषण योजना के अंतर्गत प्राथमिक व मध्य विद्यालयों में कार्य कर रहे रसोईया की स्थिति वर्तमान समय में बंधुआ मजदूर से भी बदतर है। 


क्योंकि ना तो इन्हें काम की सुरक्षा है और ना ही जीने के लायक पारिश्रमिक दिया जाता है। इन्हें विद्यालयों में मनमाने ढंग से रखा जाता है और उसी तरह से मनमाने ढंग से हटा भी दिया जाता है। 

रसोइयों का कार्य स्थाई प्रकृति का है इन्हें बार-बार बदलना विधिक परंपरा एवं मानवाधिकार के खिलाफ है। रसोइयों को वर्तमान में मिलने वाला मानदेय मात्र 1650 है जो इस भीषण महंगाई में ऊंट के मुंह में जीरा के समान है। 

रसोइयों ने 13 सूत्री मांग सरकार के नुमाइंदों के सामने रखा है। जिसमें कार्यरत रसोइयों का अगस्त 2020 से अगस्त 2022 के बीच जिनका बकाया मानदेय हैं। इन्हें तत्काल भुगतान कराये जाने की मांग की गयी। साथ ही मृतक रसोइयों के आश्रितों को सरकार द्वारा घोषित अनुग्रह बकाया राशि का भुगतान तत्काल कराये जाने की मांग की गयी। रसोइयों का मानदेय भी 10000 किया जाए। अगर हमारी मांगे पूरी नहीं होती है तो हमारा आगे भी आंदोलन उग्र होगा।

नालंदा से राज की रिपोर्ट 


Find Us on Facebook

Trending News