जिस जिले में होता है छठ का सबसे बड़ा आयोजन, वहीं छठ का प्रसाद बनाने के दौरान फटा गैस सिलेंडर, एक दो नहीं.. 34 लोग आए चपेट में

जिस जिले में होता है छठ का सबसे बड़ा आयोजन, वहीं छठ का प्रसाद बनाने के दौरान फटा गैस सिलेंडर, एक दो नहीं.. 34 लोग आए चपेट में

AURANGABAD : बिहार का औरंगाबाद जिला, जहां प्रदेश में सबसे ज्यादा संख्या में छठ व्रत किया जाता है। न सिर्फ लाखों की संख्या में स्थानीय लोग, बल्कि उससे कहीं ज्यादा प्रदेश के दूसरे जिले से लोग महापर्व करने के लिए देव पहुंचते हैं। इसी औरंगाबाद जिले में बीती रात एक बड़ा हादसा हो गया। यहां औरंगाबाद नगर थाना स्थित शाहगंज मोहल्ले में एक घर में खाना बनाने के दौरान सिलेंडर ब्लास्ट कर गया। हादसे की भयावहता इससे ही समझ सकते हैं कि इस ब्लास्ट की चपेट में एक साथ 34 लोग बुरी तरह से झुलस गए। जिसमे दो दर्जन की हालत गंभीर बतायी जा रही है।

सिलेंडर ब्लास्ट की यह घटना मोहल्ले के अनिल गोस्वामी के घर पर हुई है। बताया जा रहा है कि उनके घर पर छठ पर्व के लिए सारे रिश्तेदार पहुंचे हुए थे। बताया जाता है कि घर में छठ का प्रसाद बन रहा था। इसी दौरान गैस सिलेंडर में रिसाव होने के कारण आग लग गई और सिलेंडर ब्लास्ट हो गया। इस ब्लास्ट में न सिर्फ घर के लोग, बल्कि पांच पुलिसकर्मी भी झुलस गए। कुल घायलों की संख्या 34 के करीब बताई गई है।   घरवालों के द्वारा शोर मचाने के बाद मोहल्ला के नागरिक पहुंचे। घटना की सूचना पर नगर थाना पुलिस पहुंची। आग बुझाने की कोशिश किए परंतु आग पर काबू नहीं हो पाया। अंततः सिलेंडर गर्म होकर विस्फोट कर गया। 

वही गृह स्वामी अनिल गोस्वामी ने बताया कि घर मे छठ पर्व हो रहा था। सभी परिवार प्रसाद बनाने में जुटे हुए थे। तभी गैस रिसने लगा और आग पकड़ लिया तो लोग इधर-उधर भागने लगे। परिवार के लोग चीखने चिल्लाने लगे तो आसपास के मुहल्ले के लोग दौड़े और नगर थाना की पुलिस एवं दमकल की टीम को सूचना दी। इसके बाद मुहल्ले के लोग आग बुझाने में जुट गए तभी पुकिसकर्मी की टीम पहुची। तबतक आग का लपेटा तेज पकड़ लिया था और अचानक घर का गैस फट गया जिसके कारण 30 से अधिक लोग के आसपास झुलस कर घायल हो गए।

घटना के बाद सदर अस्पताल में भर्ती लोगो का चिकित्सकों के द्वारा उपचार किया गया। इसके बाद लोग स्थिति अनुसार अपने अपने मरीज को इधर उधर आसपास के निजी अस्पताल एवं गंभीर हालत देखते हुए बाहर ले गए। वहीं सदर सदर अस्पताल के चिकित्सकों के द्वारा कई घायलों को गंभीर अवस्था मे रेफर कर दिया गया। बाकी सभी घायलों का इलाज सदर अस्पताल में कराया जा रहा है

वही नगर थाना के एसआई विनय कुमार सिंह में बताया कि आग लगने की सूचना मुहल्लेवासियों के द्वारा प्राप्त हुआ। सूचना पर दल बल के साथ पहुँचे और आग बुझाने में जुट गए। लेकिं तभी अचानक जोर से ब्लास्ट हुआ जिसमे लोग झुलस गए। हालांकि प्रशासन के द्वारा अभी घटना के कारण का पुष्टि नही की गई है। लेकिन गृहस्वामी अनिल गोस्वामी का कहना है कि गैस फटने से आग लगी है। फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

सदर अस्पताल में किया गया इलाज

घायल पुलिसकर्मी मो. मोजीम, अखिलेश कुमार, जगलाल प्रसाद, सैफ जवान मुकुंद रावत, प्रीति कुमारी, नगर परिषद के चैयरमैन प्रत्याशी अनिल कुमार उर्फ अनिल ओड़िया, गया ज्वेलर्स के मालिक पंकज वर्मा, मिराज आलम, मो. बिट्टू, सोनू कुमार, मोनू कुमार, महेंद्र साव, आरएन गोस्वामी, सुदर्शन कुमार, मो. नईम, राज कुमार, प्रभात कुमार, मो. शाहनवाज, शाहनवाज कुरैशी, छोटू आलम, मो. असलम, मो. नेजाम, अमित कुमार, सुदर्शन कुमार, आदित्य कुमार, राजीव कुमार, दिलीप कुमार, अशोक कुमार, मो. साबिर, मो. अरबाज, छोटू आलम का इलाज सदर अस्पताल में किया गया।

दो दर्जन को बाहर रेफर किया

गंभीर रूप से घायल दो दर्जन को बेहतर इलाज के लिए बाहर रेफर किया गया है। 14 की स्थिति अत्यंत गंभीर बताई जाती है। पंकज वर्मा समेत कई अन्य लोगों का इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है।  घर मे फैली आग पर अग्निशमन टीम के द्वारा काबू पा लिया गया है।

कितने सिलेंडर हुए ब्लास्ट, पता नहीं

जितनी संख्या में लोग घायल हुए हैं, उसके बाद मामला गहरा गया है। लोगों का कहना है कि एक ही घर में 34 लोग क्या कर रहे थे। वह भी सभी एक ही जगह मौजूद थे। सवाल सिलेंडर ब्लास्ट को लेकर भी उठाए जा रहे हैं। क्योंकि इससे पहले कभी भी सिलेंडर ब्लास्ट से इतनी संख्या में लोगों के झुलसने के मामले सामने नहीं आए हैं। ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि यह एक सिलेंडर ब्लास्ट से संभव नहीं हो सकता है।


Find Us on Facebook

Trending News