बिहार के शिक्षा बजट में नए नियुक्त होनेवाले 94 हजार शिक्षकों के लिए वेतन का प्रावधान नहीं, पुष्पम प्रिया ने सरकार की मंशा पर उठाए सवाल

बिहार के शिक्षा बजट में नए नियुक्त होनेवाले 94 हजार शिक्षकों के लिए वेतन का प्रावधान नहीं, पुष्पम प्रिया ने सरकार की मंशा पर उठाए सवाल

PATNA : एक तरफ बिहार सरकार यह दावा करती है कि वह जल्द ही स्कूलों में 94 हजार शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया को अम्लीय जामा पहनाएगी। वहीं दूसरी तरफ बिहार के शिक्षा विभाग के बजट को देखें तो इसमें इन नए शिक्षकों के वेतन को लेकर किसी प्रकार का प्रावधान ही नहीं किया गया है। बिहार के शिक्षा विभाग का बजट पिछले साल की तुलना में मामूली बढ़ोतरी की गई है। ऐसे में अब सवाल यह उठ रहे हैं कि अगर नए शिक्षकों की नियुक्ति होती है तो उनके लिए वेतन का प्रावधान किस मद की राशि से किया जाएगा।

दरअसल, बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान नई सनसनी बनकर उभरी पुष्पम प्रिया चौधरी ने अपने ट्विटर हैंडल पर शिक्षा विभाग के वेवसाइट से स्थापना विभाग की एक पेज शेयर की है। जिसमें 2021-21, पुनरीक्षित बजट 2020-21 और 2021-22 के शिक्षा बजट की जानकारी उपलब्ध है। इस पेज पर जो जानकारी दी गई है, उसके अनुसार पिछले वित्तीय वर्ष के पुनरीक्षित बजट में वेतन, विशेष वेतन, जीवन यापन भत्ता और अन्य भत्ता को मिलाकर 557998.18 लाख रुपए खर्च करने का प्रावधान किया गया था। यह बजट तब तैयार किया गया जब बिहार में 94 हजार शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया शुरू भी नहीं हुई थी और न ही कोर्ट से उनकी नियुक्ति संबंधित कोई आदेश जारी किया गया था। 

2020-21 के बजट में मामूली बढ़ोतरी

चौंकानेवाली बात है यह कि बिहार में शिक्षा विभाग की बेहतरी का दावा करनेवाली राज्य सरकार के नए शिक्षा बजट में पिछले वर्ष के पुनरीक्षित बजट की राशि से भी सिर्फ कुछ राशि की बढ़ोतरी की गई। जो कि 94 हजार शिक्षकों के वेतन के हिसाब से पर्याप्त नजर नहीं आता है।  स्थापना विभाग के शेयर किए गए पेज पर जहां 2020-21 का पुनरीक्षित ₹ 557998.18 लाख था, वहीं 2021-22 के बजट में वेतन, विशेष वेतन, जीवन यापन भत्ता और अन्य भत्ता को लेकर 576500.36 लाख का प्रावधान किया गया है। जाहिर है कि बजट में नए शिक्षकों के वेतन के लिए बजट का कोई इंतजाम नहीं किया गया है। तो उनकी नियुक्ति के बाद भी वेतन की समस्या उत्पन्न हो गई।


सरकार की मंशा पर उठाए सवाल

शिक्षा विभाग की बजट का पेज शेयर करते हुए पुष्पम प्रिया ने नीतीश सरकार की मंशा पर सवाल उठाया है। उन्होंने हाथ कंगन को आरसी क्या! देखिए इनकी ठगी और निर्दयता। 94000 शिक्षकों के वेतन का शिक्षा विभाग के बजट में अतिरिक्त प्रावधान नहीं, मतलब नियुक्ति नहीं देनी। यही विकास की बात पीएम @narendramodi  जी से करने दिल्ली गए थे @NitishKumar जी?

Find Us on Facebook

Trending News