भारत रचेगा इतिहास ! ओलम्पिक मेजबानी की दावेदारी के लिए मोदी सरकार ने बढ़ाया बड़ा कदम, जानिए क्या है योजना

भारत रचेगा इतिहास ! ओलम्पिक मेजबानी की दावेदारी के लिए मोदी सरकार ने बढ़ाया बड़ा कदम, जानिए क्या है योजना

DESK. भारत में ओलम्पिक खेलों के आयोजन के लिए मोदी सरकार बनी योजना बना रही है. इसके लिए रूप रेखा भी बना ली गई है और अब मेजबानी का दावा भी ठोका जाएगा. केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर  ने ऐलान किया है कि भारत 2036 में होने वाले ओलंपिक खेलों की मेजबानी का दावा करेगा. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अगले साल सितंबर में इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी की मीटिंग के दौरान इसका रोडमैच आईओसी के सामने पेश किया जाएगा.

यानी अगर सब कुछ सही रहा तो भारत में वर्ष 2036 में होने वाले ओलम्पिक खेलों का आयोजन हो सकता है. इसके लिए मोदी सरकार की ओर से पहल शुरू की गई है. हालांकि यह निर्भर करेगा कि भारत को खेलों की मेजबानी के लिए मौका मिलता है या नहीं. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जब भारत जी20 प्रेसीडेंसी जैसे बड़े आयोजन कर सकता है तो मुझे पूरा विश्वास है कि भारत सरकार ओलंपिक जैसे बड़े आयोजन को भी सफलतापूर्वक पूरा कर सकता है. हम इंडियन ओलंपिक एसोशिएन के माध्यम से ऐसा कर सकते हैं. हमें पता है कि 2032 तक के ओलंपिक गेम्स का मेजबानी तय की जा चुकी है लेकिन 2036 के लिए हम दावा करेंगे. ठाकुर ने कहा कि हम ऐसा करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं.

रिपोर्ट्स की मानें तो अनुराग ठाकुर ने कहा कि भारत सरकार इंडियन ओलंपिक एसोसिएश के उस प्रस्ताव का समर्थन करेगा जिसमें वे गुजरात के अहमदाबाद में ओलंपिक गेम्स होस्ट करना चाहते हैं. अहमदाबाद को होस्ट सिटी इसलिए बनाया जाएगा क्योंकि यहां पर वर्ल्ड क्लास स्पोर्ट्स फैसिलिटी उपलब्ध है. अनुराग ठाकुर ने कहा कि भारत 1982 में एशियन गेम्स और 2010 में कॉमनवेल्थ गेम्स की मेजबानी कर चुका है और इसलिए अब बारी है कि भारत समर ओलंपिक की मेजबानी करे.

हालांकि एशियन गेम्स और कॉमनवेल्थ गेम्स से अलग ओलम्पिक का आयोजन ज्यदा बड़े स्तर पर होता है. पिछली बार कॉमनवेल्थ गेम्स का आयोजन दिल्ली में हुआ था. ऐसे में अब ओलम्पिक आयोजन का मौका भारत को मिलता है तो यह पहली बार होगा कि ऐसा आयोजन दिल्ली के बाहर होगा. 


Find Us on Facebook

Trending News