ऐसा भी होता हैः बिहार में मुर्गे के बाद बकरे की हत्या से तनाव, पड़ोसी की बकरी के पास जाना पड़ा महंगा, थाने में दर्ज हुआ मामला

ऐसा भी होता हैः बिहार में मुर्गे के बाद बकरे की हत्या से तनाव, पड़ोसी की बकरी के पास जाना पड़ा महंगा, थाने में  दर्ज हुआ मामला

KAIMUR: जिले के मोहनिया थाना क्षेत्र के चौरसिया गांव में 15 जुलाई को कुछ लोगों द्वारा एक बकरे की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। इस मामले मे पीड़ित पक्ष द्वारा आरोपियों पर कार्रवाई के लिए थाने में आवेदन दिया गया है। बकरे का कसूर बस इतना था कि वह अपने मालिक के घर के बगल में बंधी एक बकरी को देखकर उसके पास चला गया। उसके बाद क्या था आरोपी सीपू राम द्वारा बकरे को लाठी डंडे से पीट-पीटकर घटनास्थल पर ही मौत के घाट उतार दिया गया। जिसके बाद बकरे की मालकिन राधा देवी द्वारा मोहनिया थाने में बकरे को पीट-पीटकर हत्या करने के मामले में सीपू राम को नामजद आरोपी बनाते हुए तथा उसके मां और पिता को सह देकर बकरे का हत्या करने के मामले में थाने में प्राथमिकी दर्ज करने के लिए आवेदन दे डाला। महिला थाना परिसर में न्याय के लिए खूब रो-बिलख रही थी। जिसके बाद पुलिस ने महिला द्वारा आवेदन लेकर बकरे को पोस्टमार्टम के लिए पशु चिकित्सालय मोहनिया भेज दिया। जहां चिकित्सक द्वारा बकरे का पोस्टमार्टम भी कर दिया गया।

वहीं पीड़िता ने बताया कि मैं मोहनिया थाना क्षेत्र के चौरसिया गांव की रहने वाली हूं। मेरे बकरे को सीपू राम द्वारा पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी है। बकरे का कीमत लगभग ₹15000 के आसपास है। सीपू राम मेरे और मेरे परिवार के ऊपर भी जान मारने की नीयत रखता है, इससे जानमाल को खतरा है। मुझे अब न्याय चाहिए। वही पोस्टमार्टम करने वाले पशु चिकित्सक ने बताया बकरे का पोस्टमार्टम किया गया है। पुलिस द्वारा लाया गया था। तीन-चार दिन में रिपोर्ट आएगा कि बकरे की मौत कैसे हुई है। वही मौके पर मौजूद मोहनिया थाना के एएसआई ने बताया बकरे की मौत का मामला थाना में आया था। जहां उसके डेड बॉडी को पोस्टमार्टम कराया गया है। जो भी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आएगा उसके मुताबिक कार्रवाई होगी ।

अब देखना दिलचस्प होगा कि अपराधियों की धरपकड़ में पीछे रहने वाली पुलिस बकरे का हत्या होने के बाद नामजद प्राथमिकी के लिए पीड़िता ने आवेदन भी दे रखा है। उसके बावजूद किस तरह की कार्रवाई पुलिस की तरफ से होती है, और पीड़िता को कैसे न्याय मिल पाता है। कैमूर जिले में यह कोई नया मामला नहीं है कि जब एक बकरे का पोस्टमार्टम हुआ है। इसके 2 साल पहले भी दुर्गावती थाना क्षेत्र में एक मुर्गे को पीट-पीटकर मारने का दुर्गावती थाने में 7 आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज हुई थी और उस समय भी मुर्गे का पोस्टमार्टम कराया गया था। वह भी पीड़ित के आवाज उठाने के बाद मामला ठंडे बस्ते में चला गया था।

Find Us on Facebook

Trending News