अब केवल इतिहास के पन्नों में ही रह जायेंगे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, बोले लोजपा प्रत्याशी संजय कुमार सिंह

अब केवल इतिहास के पन्नों में ही रह जायेंगे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, बोले लोजपा प्रत्याशी संजय कुमार सिंह

SAHARSA : लोक जनशक्ति पार्टी के प्रत्याशी संजय कुमार सिंह के समर्थन में चुनाव प्रचार करने के लिए लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान का भव्य कार्यक्रम आगामी 5 नवंबर को सिमरी बख्तियारपुर में होने जा रहा है. विभिन्न नेताओं द्वारा इस कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु एवं अपार भीड़ जुटाने के लिए लगातार क्षेत्र का दौरा किया जा रहा है. इसी कड़ी में बलवा हाई स्कूल के में आज लोजपा के तमाम बड़े नेताओं द्वारा जनसभा को संबोधित किया गया. इसमें वैशाली की सांसद वीणा देवी, राजेन्द्र सिंह, रामेश्वर चौरसिया, भगवान सिंह कुशवाहा, शहनवाज़ कैफी इत्यादि नेताओं ने इस बार बिहार के विकास के लिए बदलाव को जरुरी बताते हुए लोक जनशक्ति पार्टी के समर्थन में वोट करने की अपील की. सभी नेताओं के निशाने पर मुख्यतः सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रहे.  नीतीश कुमार के सुशासन तथा विकास की बातों को विभिन्न सरकारी विभागों तथा बड़े बड़े कॉर्पोरेट घरानों के द्वारा लूट को लेकर सभी नेताओं ने उन्हें अपने निशाने पर लिया. 

नीतीश कुमार के सात निश्चय को लोक जनशक्ति पार्टी के नेताओं ने पूरी तरह से विफल करार देते हुए कहा कि यह योजनाएं केवल कागजों पर ही चली और कागजों पर ही इसे पूरा दिखा कर बिहार के जनता की गाढ़ी कमाई को ठेकेदारों के माध्यम से लूटा गया.  इसके साथ ही हर घर जल योजना को जनता को चलने वाला कार्यक्रम बताते कहा गया कि इस योजना में भी बिहार में लूट अपने चरम पर रहा और किसी भी घर में आज तक शुद्ध पेयजल नहीं पहुंच पाया है. सिमरी बख्तियारपुर क्षेत्र के लगभग सभी गांव में और बांध के भीतर के इलाकों में तो शुद्ध पेयजल की समस्या और भी विकराल बनी हुई. नीतीश कुमार द्वारा बनवाए गए जल मीनार उनकी इस योजना की विफलता का जीता जागता स्मारक बने हुए हैं. केंद्र द्वारा उपलब्ध कराए गए विकास मद के पैसों को नीतीश कुमार ने किस प्रकार लूटा है इसे देखने के लिए केवल बिहार की सड़कों पर घूम जाना ही काफी है. रात में बनने वाली सड़कें सुबह टूट जाती हैं. इसी प्रकार के क्षणभंगुर विकास मॉडल को लेकर मुख्यमंत्री ने 15 साल तक लोगों को छला. लेकिन इस बार बिहार की जनता अहंकारी सरकार को सत्ता से बेदखल करने के लिए दृढ़ संकल्पित है.  

जनसभा को संबोधित करते हुए संजय कुमार सिंह ने कहा कि आने वाली 10 तारीख को बिहार की जनता इतिहास रचने वाली है. कागजी सुशासन बाबू अब केवल कागजों और इतिहास के पन्नों में ही बिहार के मुख्यमंत्री रह जाएंगे. चिराग पासवान के नेतृत्व में नई सरकार का गठन करने के लिए लोक जनशक्ति पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता इस बार एडी चोटी का जोर लगा रखा हैं और बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट के वास्तविक विकास मॉडल को जन जन तक पहुंचाने का काम कर रहे हैं. 

इस बार बिहार की जनता बिहार को झांसा कुमार के चंगुल से आजाद करवाने के लिए पूरी तरह एक होकर मतदान करने वाली है. लालू यादव के 15 साल के जंगलराज और परिवार वाद की राजनीति के विरुद्ध और 15 साल के कुशासन कागजी विकास और षड्यंत्रकारी नीतियों के खिलाफ चिराग पासवान ने एक भरोसेमंद और विश्वसनीय तीसरा विकल्प बिहार की जनता के सामने प्रस्तुत किया है. बिहार की जनता इस बार चिराग पासवान को अधिक से अधिक संख्या में बिहार से विधायक देने जा रही है. जिसके बाद 10 नवंबर को यह साफ हो जाएगा की सूबे में नीतीश कुमार के खिलाफ जनाक्रोश किस चरम सीमा पर था. 5 नवंबर को चिराग पासवान के कार्यक्रम में आने वाले अपार जनसैलाब को देखते हुए सभी कार्यकर्ता पूरे जोश के साथ लगे हुए है. 

Find Us on Facebook

Trending News