जेल से पिता के जोड़-तोड वाले खेल पर तेजस्वी 2 दिनों से अब तक चुप, आखिर माजरा क्या है?

जेल से पिता के जोड़-तोड वाले खेल पर तेजस्वी 2 दिनों से अब तक चुप, आखिर माजरा क्या है?

पटना... बिहार में चुनावी दंगल भले ही खत्म हो गया हो, लेकिन राजनीतिक दंगल अभी खत्म नहीं हुआ है। बिहार में विधानसभा के अध्यक्ष पद को लेकर चुनाव हुआ और एनडीए के नेता विजय सिन्हा को चुन लिया गया है। पांच दशक के बाद विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए सत्तापक्ष और विपक्ष में वार पलटवार के बीच विजय सिन्हा ने अध्यक्ष पद मिला। देखा जाए तो विधानसभा में झगड़ा इसको लेकर भी नहीं है। झगड़ा है जेल के भीतर से लालू यादव के कथित फोन का और इस ऑडियो के आने से बिहार में बढ़ी राजनीतिक खाई और चौड़ी हो गई है। 

आरोपों के मुताबिक ये फोन आया बीजेपी के विधायक ललन पासवान को। ललन पासवान का ये कहना है कि लालू यादव ने उनसे सेट हो जाने को कहा और उनको मंत्री पद का लालच दिया ये कह कर किया अगर तुम विधानसभा अध्यक्ष पद के चुनाव से गायब हो जाओ तो उनको महागठबंधन की अगुवाई वाली सरकार आने पर मंत्री बना देंगेँ अब ये बात ललन पासवान ने अपनी पार्टी के बड़े नेताओं को बताई तो सुशील मोदी ने इस मामले को लेकर ट्वीट कर दिया और इसके बाद ये ऑडियो पूरा वायरल हो चुका है, जिसके बाद हंगामा मचा हुआ है। हालाकि आरजेडी इस बात से साफ इंनकार कर रही है और ऑडियो को लेकर सवाल उठा रही है। 

हालाकि हम आपको बता दें कि इस ऑडियो की पुष्टि न्यूज4नेशन नहीं करता है, लेकिन इस ऑडियो को लेकर भाजपा ने आरजेडी और लालू प्रसाद के खिलाफ पूरी मोर्चेबंदी कर दी है। इतना ही नहीं हम के अध्यक्ष जीतन राम मांझी और वीआईपी के अध्यक्ष मुकेश सहीनी ने भी लालू प्रसाद पर फोन करने का आरोप लगा दिया। 

इधर, दो दिन से लालू प्रसाद के चल रहे कथित ऑडियो का मामला को लेकर भाजपा भले ही सदन से सड़क तक हमलावर बना हो, लेकिन महागठबंधन और राजद नेता तेजस्वी यादव का अभी तक कोई बयान नहीं आया है। सोशल मीडिया पर सक्रिये रहने वाले तेजस्वी यादव ने पिछले दो दिनों में सिर्फ अहमद पटेल और संविधान दिवस पर ट्वीट किया है, लेकिन अपने पिता के हो रहे अपमान को लेकर न तो कोई औपचारिक बयान दिया है और न ही सोशल मीडिया के जरिए अपनी बात रखी है। 

ऑडियो के आधार पर भाजपा ने पूरी तरह से बिहार मे राजनीतिक हंगामा खड़ा कर दिया है। चारा घोटाले में रांची में सजा काट रहे लालू प्रसाद पर बिहार में नीतीश कुमार के तख्ता पलट के आरोपों के साथ एनडीए के सभी घटक दल आक्रमक हैं। ऑडियो वायरल होने के बाद अब एनडीए ने जहां लालू प्रसाद को दिल्ली के तिहाड़ जेल में भेजने की मांग कर दी है तो वहीं दूसरी ओर राजद के नेता ने इसे पूरी तरह से नकारा दिया है।

Find Us on Facebook

Trending News