PM के मातहत मंत्री जी ने ही कोरोना गाइडलाइन को कर दिया तार-तार, कोविड-19 प्रोटोकॉल को ठेंगा दिखाते हुए निकली जन आर्शीवाद यात्रा

PM के मातहत मंत्री जी ने ही कोरोना गाइडलाइन को कर दिया तार-तार, कोविड-19 प्रोटोकॉल को ठेंगा दिखाते हुए निकली जन आर्शीवाद यात्रा

औरंगाबाद. भारत सरकार के भारी भरकम उर्जा मंत्रालय के मंत्री पूर्व आइएएस अधिकारी राजकुमार सिंह फुल फॉर्म में आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर बिहार की जनता से आर्शीवाद लेने जन आर्शीवाद यात्रा पर निकले. यात्रा पर निकलते ही वे प्रधानमंत्री के निर्देश "दवाई भी और कड़ाई भी" को भूल गये. प्रधानमंत्री तो प्रायः हर कार्यक्रम में कोविड-19 प्रोटोकॉल का ख्याल रखते हैं और खुद मास्क का प्रयोग भी करते हैं, पर उन्हीं के अधीनस्थ बिहार में जन आर्शीवाद यात्रा पर ऐसे निकले, जैसे यारों की बारात हो जरा जोर से निकले.

औरंगाबाद में बिना मास्क के मंत्री जी और उनके समर्थकों ने कोरोना नियमों को तार तार करते हुए बारात यानि यात्रा भी जोर से ही निकाली. बारात ऐसी की खुद ही सैंया बने नजर आये और कोतवाल यानि केंद्रीय मंत्री तो वे खुद ठहरे. अब जब वे सैंया और कोतवाल दोनों ही बन गये, तो डर काहे का जी. तो यहां पर कोरोना का भी डर खत्म हो गया. शासन-प्रशासन का अमला तो उनकी जी हुजुरी में लगा ही रहा पर किसी की हिम्मत नहीं हुई कि उनसे कोई कोरोना गाइडलाइन का पालन करा लें.

मंत्री जी का कारवां बढ़ता चला, कोरोना से निडर बनकर मंत्री जी कोविड-19 प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ाते गये. भला किसकी मजाल, जो उन्हे ऐसा करने से रोक लें. वैसे मंत्री जी भी जुबानी तौर स्पष्ट स्वीकार कर रहे हैं कि कोरोना तो अब समाप्ति पर है. इसके बावजूद केंद्र सरकार नवम्बर तक गरीबों को मुफ्त राशन देगी और जरूरत पड़ने पर यह अवधि भी बढ़ाई जा सकती है.

Find Us on Facebook

Trending News