जयंती पर याद किए गए किसान नेता गुरु सहाय लाल, डीएम ने प्रतिमा पर माल्यार्पण कर अर्पित किये श्रद्धासुमन

जयंती पर याद किए गए किसान नेता गुरु सहाय लाल, डीएम ने प्रतिमा पर माल्यार्पण कर अर्पित किये श्रद्धासुमन

 Nalanda : स्वतंत्रता सेनानी व किसानों के नेता गुरु सहाय लाल की आज 131 वीं जयंती श्रद्धापूर्वक मनायी गयी। इस मौके पर जिलाधिकारी योगेंद्र सिंह समेत कई अधिकारियों और बुद्धिजीवियों ने अम्बेडकर चौक स्थित उनके आदमकद प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। 

इस मौके पर जिलाधिकारी ने कहा कि गुरु सहाय लाल देश के महान सामाजिक कार्यकर्ता ही नहीं बल्कि किसानों के मुक्तिदाता और एक महान समाजसेवी थे। स्वतंत्रता की लड़ाई में उन्होंने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया था। वहीं वे जीवनपर्यंत किसानों की भलाई के लिए संघर्षरत रहें। 

बता दें कि गुरु सहाय लाल का जन्म 11 अगस्त को नालंदा जिले के गिरियक प्रखंड के वादी गांव में हुआ था । वर्ष 1924 में बिहार उड़ीसा राज्य के विधान परिषद के लिए पूरी पटना के बाहरी निर्वाचन क्षेत्र से इन्हें सदस्य के रूप में चुना गया था। वहीं वर्ष 1937 में बिहार में पहली बार देसी सरकार की स्थापना मोहम्मद यूनिस के नेतृत्व में हुई थी। इस मंत्रिमंडल में गुरु सहाय लाल जी को राजस्व एवं विकास मंत्री बनाया गया था। 

मंत्री बनने के बाद उन्होंने दफा 12 के तहत संशोधन कर पार्लियामेंट दिल्ली से पारित करवाकर खेती करने वाले छोटे किसानों को जमींदार के शोषण और जुल्म से मुक्ति दिलाया था। ग्रामीण बच्चों को आधुनिक शिक्षा दिलाने के लिए उन्होंने वर्ष 1939 में टेक नारायण उच्च विद्यालय की स्थापना की थी। इसके अलावा भी वे कई तरह के जन सरोकार कार्य किए थे । जिसके कारण जिले में उनकी एक अलग पहचान थी।

नालंदा से राज की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News