कुशेश्वरस्थान के जदयू उम्मीदवार ने मतदाताओं के नाम लिखा भावुक पत्र, कहा तीर छाप पर बटन दबाकर मेरे माँ और पिता जी को अपनी श्रद्धांजलि दीजिए

कुशेश्वरस्थान के जदयू उम्मीदवार ने मतदाताओं के नाम लिखा भावुक पत्र, कहा तीर छाप पर बटन दबाकर मेरे माँ और पिता जी को अपनी श्रद्धांजलि दीजिए

DARBHANGA : कुशेश्वरस्थान विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में एनडीए बहुत सधी हुई रणनीति से एक-एक वोटर तक अपने संदेश भेज रही है। एक तरफ, एनडीए प्रत्याशी अमन भूषण हजारी का जनता के बीच जाकर आशीर्वाद लेने का कार्यक्रम लगातार चल रहा है, तो दूसरी तरफ, एनडीए के वरिष्ठ नेतागण, मंत्री, विधायक, पूर्व मंत्री, पूर्व विधायक, पदाधिकारी, कार्यकर्ता, समर्थक इत्यादि हर गांव, हर घर और हर वोटर तक पहुंचकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विचारों और कार्यों को पहुंचाने के लिए पसीना बहा रहे हैं। इन सबके बीच, एनडीए के 'हर हाथ पर्चा अभियान' की खूब चर्चा हो रही है। इस अभियान के तहत एनडीए परिवार, अमन भूषण हजारी की एक चिट्ठी कुशेश्वरस्थान के हर मतदाता तक पहुंचा रहा है। 

कुशेश्वरस्थान की जनता के नाम इस भावुक चिट्ठी में अमन भूषण हजारी ने लिखा है, "लोग कहते हैं कि जीवन बहुत अनिश्चित है, लेकिन मैं तो खुद ये सब महसूस कर रहा हूं। पहले मेरे पिता जी और फिर माता जी का स्वर्गवास हो गया। एक महीने के भीतर मैंने अपने मां-बाप दोनों को खो दिया।" कुशेश्वरस्थान की जनता के लिए एनडीए प्रत्याशी लिखते हैं, "आशा करता हूं कि बाबा कुशेश्वर की कृपा से आप और आपके परिवारजन स्वस्थ होंगे, कुशल होंगे।" वह आगे लिखते हैं, "हम बहुत खुश रहते थे। पिता जी और माता जी मेरे ऊपर कोई तनाव नहीं आने देते थे। अचानक पिता जी बीमार हुए और फिर एक दिन वह हमको छोड़कर चले गए। उनके चले जाने के दु:ख से मैं उबर पाता कि हमारी माता जी भी हमें छोड़कर चली गईं। मैं अनाथ हो गया। मैं कुशेश्वरस्थान की श्रद्धेय व संवेदनशील जनता का, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का और पूरे एनडीए परिवार का जीवनभर अहसानमंद रहूंगा कि सबने मुझे सहारा दिया। सबने हिम्मत दी। सबने अहसास कराया कि मैं अनाथ नहीं हुआ हूं। उस दु:ख, विषाद, पीड़ा, तनाव, बेचैनी के बावजूद मैंने आप लोगों के बीच जाना शुरू किया, आप लोगों से मिलना-जुलना शुरू किया और आप लोगों के प्यार, स्नेह, आशीर्वाद से मुझे थोड़ी मजबूती मिली। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार मेरा हालचाल जानते रहे। मुझे हिम्मत देते रहे। मेरा मनोबल बढ़ाते रहे।" 

एनडीए की तरफ से खुद को प्रत्याशी बनाए जाने का जिक्र करते हुए अमन भूषण हजारी ने अपने पत्र में लिखा है, "आप सबको पता ही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी जी, विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार सरकार में मंत्री मुकेश सहनी, राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष, केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस और पूरे एनडीए परिवार के सभी वरिष्ठ नेताओं, पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं और आप सबके आशीर्वाद से मुझे कुशेश्वरस्थान उपचुनाव के लिए एनडीए समर्थित जदयू प्रत्याशी बनाया गया है।" 

कुशेश्वरस्थान की जनता को अपना गार्जियन बताते हुए वह लिखते हैं, "यह उपचुनाव आप सबका है। आज मैं जो कुछ भी हूं, कुशेश्वरस्थान की श्रद्धेय जनता की वजह से हूं। कुशेश्वरस्थान की जनता ने मेरे दिवंगत पिता शशि भूषण हजारी को लगातार तीन बार क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने का मौका दिया। अब पिता जी और माता जी के इस दुनिया में ना रहने के बाद कुशेश्वरस्थान की जनता ही मेरी गार्जियन है। मैं आपका बेटा, आपका भाई बनकर हमेशा आपके बीच रहूंगा। आपके विश्वास पर हमेशा खरा उतरूंगा। पिता जी के अधूरे कार्यों को पूरा करने के लिए मुझे आपका आशीर्वाद चाहिए।" चिट्ठी के आखिर में अमन भूषण हजारी कुशेश्वरस्थान की जनता से एक अनुरोध करते हुए लिखते हैं,"आखिर में, बस इतना ही कहना चाहता हूं कि 30 अक्टूबर 2021 को तीर छाप चुनाव निशान के सामने बटन दबाकर मेरे पिता जी और मेरी माता जी को अपनी श्रद्धांजलि दीजिए।"

Find Us on Facebook

Trending News