जदयू ने आरक्षण विरोधी भाजपा का पोल खोल कार्यक्रम का किया आयोजन, मोतिहारी, बगहा और नालंदा सहित सभी जिलों में दिया धरना

जदयू ने आरक्षण विरोधी भाजपा का पोल खोल कार्यक्रम का किया आयोजन, मोतिहारी, बगहा और नालंदा सहित सभी जिलों में दिया धरना

NALANDA : आरक्षण विरोधी भाजपा का पोल खोल कार्यक्रम के तहत नालंदा जिला जनता दल यूनाइटेड के द्वारा अस्पताल चौराहा पर एक दिवसीय धरना का आयोजन किया गया। धरना में नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार, बिहार सरकार के मंत्री श्रवण कुमार, सांसद कौशलेंद्र कुमार, अस्थावां विधानसभा के विधायक डॉ जितेंद्र कुमार, राजगीर विधायक कौशल किशोर , राष्ट्रीय महासचिव पूर्व विधायक ई सुनील कुमार, नगर अध्यक्ष नदीम जफर के अलावे कई जदयू कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। इस मौके पर मंत्री श्रवण कुमार ने अमित शाह के बार-बार बिहार आने पर कहा कि अमित शाह का बिहार में आने पर बार-बार स्वागत है। उनके आने से बिहार को कुछ लाभ तो नहीं होगा, लेकिन बिहार में आकर लोगों के बीच तनाव पैदा जरूर कर रहे हैं। जबकि नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 2006 में ही अति पिछड़ा, महिलाओं को आरक्षण देने का काम किया और इसके बाद कई बार चुनाव भी हो चुके हैं। लेकिन 2022 में नगर निकाय चुनाव के बीच में एक स्पेशल कोर्ट बैठाकर नगर निकाय चुनाव को रद्द कर दिया जाता है। कहीं न कहीं नीतीश कुमार के छवि को बदनाम करने का प्रयास बीजेपी के द्वारा किया जा रहा है। इतना ही नहीं अति पिछड़ा को जो आरक्षण मिल रहा था, उसे भी रोकने का काम किया गया है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार में जब तक सांस बची है जब तक आरक्षण देने का काम करते रहेंगे। इसके लिए हमें सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाना क्यों ना पड़े।

वहीँ मोतिहारी में जदयू नेताओं ने राज्यव्यापी कार्यक्रम के तहत् एक दिवसीय धरना का आयोजन किया। धरना में केसरिया की विधायक शालिनी मिश्रा, गोविन्दगंज की पूर्व विधायक मीना द्विवेदी और आदापुर के पूर्व विधायक पूर्व मंत्री वीरेन्द्र कुशवाहा मौजूद रहे। मोतिहारी के कचहरी चौक पर आयोजित धरना में बडी संख्या में कार्यकर्ता और पार्टी के नेता मौजूद रहे। केन्द्र सरकार पर आरक्षण को खत्म करने की साजिश करने का आरोप लगाते हुए जदयू ने राज्यव्यापी धरना कार्यक्रम का आयोजन किया है। नगर निकाय चुनाव में आरक्षण के मामले को लेकर नेताओं ने कहा की इसे खत्म कराने की भाजपा और केन्द्र सरकार की साजिश है। जदयू की केसरिया विधायक शालिनी मिश्रा ने कहा कि केन्द्र  की भजपा सरकार आरक्षण विरोधी सरकार है। कई राज्यो में आरक्षण को खत्म करते हुए बिहार पर गरीब, वंचित लोगों के आरक्षण को समाप्त करना चाहती है। भाजपा अतिपिछडा विरोधी है। उन्होंने कहा कि आगामी लोक सभा चुनाव 2024 में भाजपा को इसका खामियाजा भुगतना होगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सभी समाजवादी विचारधारा की पार्टियों को गोलबन्द कर भाजपा को मुहतोड जबाव देगें। और 2024 में नीतीश कुमार प्रधानमंत्री बनेगें। धरना की अध्यक्षता जदयू की जिलाध्यक्ष पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष मंजू देवी ने किया।

उधर बगहा में आज आरक्षण विरोधी भाजपा के पोल खोल को लेकर जदयू के एक दिवसीय धरना का आयोजन अनुमंडल कार्यालय बगहा के समक्ष डॉ0 अम्बेडकर प्रतिमा के सामने आयोजित की गई। धरना की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष सह विधान पार्षद भीष्म सहनी और संचालन जिला उपाध्यक्ष विजय कुमार पांडे ने किया। जिलाध्यक्ष भीष्म सहनी ने धरना को सम्बोधित करते हुए कहा कि भाजपा की साजिश को सफल नहीं होने दिया जाएगा। भाजपा ने पिछले दरवाज़े से जाल रचकर हाईकोर्ट के माध्यम से अति पिछड़ों का आरक्षण खत्म करवाया है। जिसे अति पिछड़ा समाज बर्दाश्त नहीं करेगा और इसका खामियाज़ा भाजपा को भुगतना पड़ेगा। इस मौके पर कार्यक्रम प्रभारी पूर्व मंत्री मुनेश्वर चौधरी ने कहा कि हमलोग भाजपा की साजिश से अति पिछड़ों को सचेत करने आये हैं। बीजेपी ने गहरी साजिश रची है जिसके कारण आज नगर निकायों में अति पिछड़े वार्ड पार्षद, उसभापति और सभापति बनने से वंचित हो रहे हैं। लेकिन नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री रहते बीजेपी की यह साजिश सफल नहीं होने दी जाएगी। बाल्मीकिनगर विधायक धीरेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ़ रिंकू सिंह ने धरने में यह विश्वास व्यक्त किया कि नीतीश हैं तो निश्चिन्त हैं। उनके रहते अति पिछड़ों को चिंता करने की जरूरत नहीं।  धरना कार्यक्रम को जिला संगठन प्रभारी मदन पटेल, पूर्व सांसद कैलाश बैठा, पूर्व एमएलसी राजेश राम और जदयू के वरीय नेता सुरेन्द्र कुशवाहा ने सम्बोधित करते हुए एक स्वर से अति पिछड़ों को आश्वस्त किया कि आपके साथ जनता दल यू मजबूती से खड़ा है और इस समाज के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। भाजपा को अगले चुनाव में अति पिछड़ा समाज सबक सिखाने का काम करेगा।

धरने में जदयू मुख्य प्रवक्ता राकेश सिंह, विनोद कुशवाहा, दयाशंकर सिंह, सुरेन्द्र उरांव, प्रेमशीला गुप्ता, नौशेर आलम, विक्रम चौधरी, सूरज सहनी, संजय मिश्रा, विभव कुमार राय, सिंगलदीप गद्दी, दूधनाथ कुशवाहा, रविंद्र पटेल, मुरारी चौधरी, जितेंद्र जायसवाल, सिंगलदीप गद्दी, चंद्रशेखर बिन्द, बिपिन दूबे, ओमप्रकाश शाही, निवेदिता मिश्रा, अम्बिका कुशवाहा, जयप्रकाश राम, राजू मिश्रा, इजहार सिद्धीकी, शेखर कुशवाहा, जितेंद्र कुशवाहा, चंदन सिंह, सुबोध चौहान, सुरेन्द्र बैठा, जुगनू आलम, मो0 कलाम, शंभू चौधरी, आरती देवी, शांति देवी, माला रौनियर, मुन्नी देवी आदि शामिल रहे।

उधर भागलपुर के नवगछिया के अंचल कार्यालय मैं गोपालपुर विधायक गोपाल मंडल ने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ धरना प्रदर्शन में शिरकत किया। इस मौके पर उन्होंने कहा की अति पिछड़ों के बल पर नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री बने हैं। वहीँ अतिपिछड़े मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के भी साथ है। किसी रैली में अतिपिछड़े ही शामिल होते हैं। इसके बावजूद उनका आरक्षण खत्म करने की साजिश की जा रही है। इसका धरना के माध्यम से विरोध किया जाएगा। 

नालंदा से राज, मोतिहारी से हिमाशु, भागलपुर से अंजनी कश्यप और बगहा से माधवेन्द्र पाण्डेय की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News