डूबो कर ही मानेंगे! CM नीतीश की 'शराबबंदी' को फेल करने वाले उत्पाद 'अधीक्षक' खबर देख 'बिलबिला' उठे, उल्टे पत्रकार पर FIR दर्ज कराने पहुंच गये थाने

डूबो कर ही मानेंगे! CM नीतीश की 'शराबबंदी' को फेल करने वाले उत्पाद 'अधीक्षक' खबर देख 'बिलबिला' उठे, उल्टे पत्रकार पर FIR दर्ज कराने पहुंच गये थाने

PATNA: नीतीश कुमार के सपनों को चकनाचूर करने में उनका ही सिस्टम लगा हुआ है। अब जरा देखिए... शराबबंदी वाले राज्य में खुल्लम खुल्ला शराब की सप्लाई व निर्माण का खुलासा होने पर मोतिहारी के उत्पाद विभाग के अधीक्षक को पीड़ा होने लगी। सुशासन की नीति को सफलता की सीढ़ी चढ़ाने में फेल साबित हुए अधीक्षक अपने खिलाफ खबर चलने पर बिलबिला उठे हैं। हालात यह है कि साहब न्यूज4नेशन पोर्टल को ही अवैध बता थाने में मुकदमा दर्ज कराने पहुंच गये। वह भी भविष्य के आधार पर। यानी शराबबंदी को फेल करने वाले मोतिहारी के एक्साईज अधीक्षक अधिकारी कम भविष्यवक्ता बन गये हैं। 

अवैध शराब के धंधे पर विराम लगाने के बजाए न्यूज4नेशन को ही अवैध बताने लगे 

जरा इस शिकायत वाले पत्र के मजमून को पढ़िए.....। अधिकारी महोदय खबर छापे जाने से मनोबल गिरने का कारण बता कह रहे कि मद्ध निषेध नीति ही सफल नहीं हो पायेगी। मोतिहारी एक्साइज अधीक्षक के इलाके में लगातार शराब की सप्लाई और निर्माण हो रहा है। जिसका प्रमाण आये दिन मिलते रहता है। न्यूज4नेशन ने भी लगातार 2 दिनों तक शराब नेक्सस से जुड़ी खबर और उसमें एक्साइज अधिकारियों-कर्मियों व पुलिस की लापरवाही व मिलीभगत का जिक्र किया। विभागीय सूत्रों के हवाले से न्यूज4नेशन ने लिखा था कि मोतिहारी के उत्पाद अधीक्षक  मुख्यालय में कम ही समय देते हैं। खबर से अधीक्षक की पोल खुली तो वे बिलबिला उठे। फिर लगे भविष्यवाणी करने कि भविष्य में संवाददाता के द्वारा उत्पाद एवं पुलिस महकमे के अधिकारियों से दबाव बनाकर अवैध उगाही किया जा सकता है। हद है......आत्म अवलोकन करने के बजाए महोदय का मनोबल ही गिरा जा रहा। पता नहीं इनका मनोबल कैसा है कि शराबबंदी वाले राज्य में इलाके में शराब की सप्लाई से मनोबल नहीं गिरता । हां सच्ची खबर लिखने से इनका मनोबल जरूर धरासाई हो जा रहा। 

आईना दिखाने पर भड़क गये अधीक्षक

अधीक्षक को खबर से परेशानी क्यों नहीं होगी ? खुल्लमखुल्ला दूसरे प्रदेश से ट्रकों में भरकर शराब की बोतलें लाई जा रही। यूपी की तरफ निकला शराब का ट्रक जिले में डुमरिया घाट होते हुए कोटवा,पीपराकोठी,पीपरा,चकिया इलाका क्रॉस कर मेहसी इलाके में जाकर पानी भरे खेत में पलट जाए और उसमें से हजारो शराब की बोतल पानी में तैरने लगे तो उसे क्या कहेंगे ? क्या जिले के एक्साइज अधीक्षक व अन्य जिम्मेदार अधिकारी अपनी ड्यूटी कर रहे? अगर जांच होती होती क्या स्थिति रहती? वहीं न्यूज4नेशन ने शुक्रवार को खबर बताई कि बंजरिया इलाके में शराब की भट्ठियां संचालित की जा रही। शराब की भट्ठी खुलेआम संचालित की जा रही लेकिन एक्साईज व पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही। अधीक्षक महोदय आखिर यह कैसे बर्दाश्त कर सकते थे कि कोई उन्हें आईना दिखाये। न्यूज4नेशन ने जब अधिकारी को आईना दिखाया तो उसमें बदरंग चेहरा देख गुस्साये अधिकारी ने आनन-फानन में आवेदन लिख थाने में मुकदमा दर्ज कराने पहुंच गये। अगर इतनी जल्दीबाजी शराब की ,सप्लाई चेन को तोड़ने में दिखाते तो सीएम नीतीश की इस महत्वाकांक्षी योजना सफल होती। अगर सीएम नीतीश असफल हैं तो ऐसे ही गैर जिम्मेदार,लापरवाह अधिकारियों की वजह से। 

तानाशाही रवैये का जवाब कलम के माध्यम से देते रहेंगे

 पूर्वी चंपारण जिले में प्रतिदिन शराब का काला कारोबार हो रहा। उसे रोकने की जिम्मेदारी किसकी है? अवैध धंधे से आ रहा अवैध माल किसके पैकेट में जा रहा था? इन सारी चीजों से उत्पाद पुलिस का मनोबल नहीं टूट रहा ? न्यूज4नेशन के खबर से उत्पाद अधीक्षक व पुलिस की छवि खराब हो गई। लानत है ऐसी छवि और मनोबल पर जो एक सही खबर से गिर जाये और टूट जाये।सच दिखाने और लिखने से भला किसी के सम्मान और प्रतिष्ठा पर संकट कैसे आ सकता है ? सोचना यह चाहिए था लेकिन कर कुछ और रहे हैं? न्यूज4नेशन सच लिखने का अभियान जारी रखेगा। आपके तानाशाही रवैया का जवाब हमेशा हम कलम के माध्यम से देते रहेंगे। 

Find Us on Facebook

Trending News