बड़े देशों द्वारा भारत के वैक्सीन नहीं लेने पर स्वास्थ्य मंत्री ने विपक्ष को कराया चुप, जो कहा उससे होगी गर्व की अनुभूति

बड़े देशों द्वारा भारत के वैक्सीन नहीं लेने पर स्वास्थ्य मंत्री ने विपक्ष को कराया चुप, जो कहा उससे होगी गर्व की अनुभूति

पटना। बिहार विधानसभा सत्र का छठा दिन है।  जिसमें पहले सत्र में स्वास्थ्य सुविधाओं से जुड़े सवाल पर विपक्ष ने सरकार को घेरने की कोशिश की। इसी क्रम में विधायक प्रेमचंद्र मिश्रा ने कोरोना टीकाकरण को लेकर सरकार के काम करने के तरीकों पर सवाल उठाया, उन्होंने कहा कि भारत में टीका तैयार करनेवाली दोनों कंपनियों ने यह गाइडलाइन जारी की थी कि किन लोगों को यह टीका लेना है और किन लोगों को नहीं। लेकिन बिहार में सरकार ने लोगों को इस गाइडलाइन को लेकर कोई प्रचार नहीं कराया। जिससे लोगों को यह जानकारी मिले कि किन लोगों के लिए यह टीका नुकसानदायक है।

उन्होंने बताया कि गाइडलाइन में जिक्र किया गया है कि स्तनपान करानेवाली महिला, गर्भवती महिला को यह टीका नहीं लेना है, लेकिन सरकार ने कहीं भी इस बात को लेकर जानकारी नहीं दी। जिसके कारण कई ऐसे लोगों ने भी टीका लगवा लिया। विधायक प्रेमचंद यहीं पर नहीं रुके। उन्होंने कोरोना वैक्सीन को लेकर भारत सरकार को भी कठघरे में खड़ा कर दिया और कहा कि विश्व का कोई बड़ा देश भारत से वैक्सीन नहीं ले रहा है। कोरोना वैक्सीन को लेकर अब तक कुछ स्पष्ट नहीं है कि किन्हे टीका लेना है और किन्हें नहीं।  उन्होंने सरकार को खूब सुनाया कि जिस प्रकार से कोरोना वायरस इन लोगों में दी जा रही है इस पर से भरोसा उठ गया है क्योंकि आईजीएमएस के कोरोना वैक्सीन देते ही समय डॉक्टर संक्रमित हो गए हैं इस बात को सदन में उठाने का काम किए लेकिन सरकार के तरफ से कोई भी जवाब नहीं दिया गया यह सबसे बड़ी नाइंसाफी है।

मामले में सरकार की तरफ से जवाब देते हुए स्वास्थ्य मंत्री मगंल पांडेय कहा कि विश्व के कई देशों ने भारत से वैक्सीन की मांग की है, उन बड़े देशों से नहीं, यह भारत के प्रति उनके विश्वास को दर्शाता है। जहां तक कोरोना टीका लगाने के बाद भी संक्रमित होने की बात है यह जादू की टीका नहीं है, जो तुरंत बीमारी को दूर कर  देगा। वैक्सीन लगाने के 42 दिन बाद शरीर में एंटीबॉडी बनना शुरू होता है। लेकिन विपक्ष में बैठ लोग बिना कुछ समझे देश के वैक्सीन पर सवाल उठाने लगते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में अब तक 6 लाख लोगों ने टीका लगवाया है, जिनमें किसी प्रकार के साइड इफैक्ट सामने नहीं आया है।

विधान मंडल में होगा कोरोना टीकाकरण

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आगामी एक मार्च से 60 साल से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण शुरू हो रहा है। इस संबंध में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि विधानमंडल में भी कोरोना टीकाकरण की तैयारी की जा रही है। इस संबंध में दोनों सदनो के अध्यक्ष से बात की जाएगी। जिसके बाद एक कमरे में टीकाकरण की व्यवस्था की जाएगी।

Find Us on Facebook

Trending News