रिंग बॉल में कटिहार के खिलाड़ियों ने किया कमाल, झारखंड में हुए गेम्स में हासिल किया दूसरा स्थान

रिंग बॉल में कटिहार के खिलाड़ियों ने किया कमाल, झारखंड में हुए गेम्स में हासिल किया दूसरा स्थान

KATIHAR  : खेल जगत में क्रिकेट, फुटबॉल जैसे खेलो के दबदबा के बीच बिहार के छोटे से शहर कटिहार के बालक और बालिकाओं की बलबूते पर भारत में भी साउथ अफ्रीका में काफी लोकप्रिय रिंग बॉल से जुड़े खेल का माहौल बन रहा है। बास्केटबॉल से मिलते-जुलते इस खेल में सभी खिलाड़ियों को हर वक्त चौकन्ना रहना पड़ता है। हाल के दिनों में मेहनत और लगातार प्रैक्टिस के दम पर बिहार के इस छोटे से शहर के बालक बालिकाओं ने झारखंड में देशभर के कई राज्य के खिलाड़ियों को मात देकर दूसरा स्थान हासिल किया है, क्रिकेट और फुटबॉल जैसे लोकप्रिय खेल के बीच भारत में इस खेल को लेकर क्या भविष्य है और क्यों खिलाड़ी और खेल प्रेमी इस खेल के प्रति आकर्षित हो रहे हैं इस पर रिंग बॉल से जुड़े खिलाड़ी और रिंग बॉल एसोसिएशन के प्रतिनिधि ने कहा कि इसमें बिहार के खिलाड़ियों के आगे बढ़ने का पूरा स्कोप है।

रिंग बॉल  प्रतियोगिता में भारत में दूसरा स्थान करनेवाली बालिका वर्ग की मिशा सिंह का कहना है कि इसमें हम लोगों ने दिखा दिया है कि बिहार में इस खेल का कितना स्कोप है। हमारी टीम पूरे देश में दूसरे स्थान पर रही। वहीं बालक वर्ग में तीसरे स्थान पर रहने के बाद कटिहार लौटे प्रशांत आनंद ने बताया कि यह खेल क्रिकेट से बिल्कुल अलग है। क्रिकेट में जहां दो खिलाड़ी गेंद मारते हैं और 11 खिलाड़ी उसे रोकने की कोशिश करते हैं, वहीं रिंग बॉल में नौ खिलाड़ी होते हैं और सभी का योगदान बराबर रहेगा, तभी जीत संभव है। प्रशांत ने बताया कि हम बेहतर कर सकते  हैं, अगर सरकार की तरफ से पूरा सहयोग मिलेगा।

जिला प्रशासन से मिला पूरा सहयोग, एशियाड के लिए तैयारी करने चाहते हैं बच्चे

वहीं कटिहार टीम की सफलता पर बिहार रिंग बॉल एसोसिएशन के प्रतिनिधि और कोच जेपी शर्मा का कहना है कि जिला प्रशासन की तरफ से खेल की तैयारी के लिए पूरा सहयोग दिया गया। हमें प्रैक्टिश करने के लिए जगह दी गई। खिलाड़ियों ने भी बराबर मेहनत की। अब वह सभी एशियाड की तैयारी करना चाहते हैं, लेकिन उसके लिए सरकार को भी खेलों के प्रति ध्यान देना होगा और उन्हें जरुरी सुविधा मुहैय्या करवानी होगी।


Find Us on Facebook

Trending News