केशव ने 'चिराग' के ठगी की खोली पोल, LJP की मेंबरशीप के नाम पर 94 नेताओं से लिये ढाई-ढाई लाख रू, विज्ञापन के नाम पर अलग से 2-2 लाख वसूले

केशव ने 'चिराग' के ठगी की खोली पोल, LJP की मेंबरशीप के नाम पर 94 नेताओं से लिये ढाई-ढाई लाख रू, विज्ञापन के नाम पर अलग से 2-2 लाख वसूले

PATNA : लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान की पार्टी लोजपा की तरफ से तरह-तरह के फर्जीवाड़े की कहानी सामने आ रही है।अब एक नया और सनसनीखेज खुलासा हुआ है कि सदस्यता बनाने के नाम पर खूब माल बटोरा गया है। माल बटोरने के लिए सदस्यता अभियान के नाम पर 94 नेताओं से ढाई-ढाई लाख रू लिये गए।यानी करोड़ों रू सदस्यता अभियान के नाम पर वसूल किये गए हैं। लोजपा के महासचिव रहे अब जेडीयू में शामिल हो चुके केशव सिंह लोजपा के पूरे फर्जीवाड़े  से पर्दा उठा दिया है और गंभीर आरोप लगाये हैं। 

मेंबरशीप के नाम पर 94 नेताओं से लिये गए ढाई-ढाई लाख रू

केशव सिंह का सीधा आरोप है कि पैसा कमाने के लिए सदस्यता रसीद बेची गई। एक-एक लोगों को 25-25 हजार सदस्य बनाने का लक्ष्य दिया गया और सदस्यता रसीद के नाम पर 25000 का 10 गुणा यानी ढाई लाख रू हर नेता से पहले ही वसूल लिया गया। 94 नेताओं से सदस्यता अभियान के नाम पर पैसे लिये गए। लोजपा की तरफ से सदस्यता अभियान चलाने का जो नाटक किया गया वो पूरी तरह से फर्जी था और पैसा कमाना मकसद था। मेंबरशीप अभियान चलाने का नाटक किया गया था। कुछ दिन पहले जेडीयू में शामिल हुए लोजपा के पूर्व महासचिव ने कहा है कि अगर सदस्यता अभियान कागज पर नहीं होता तो फिर लालगंज के लोजपा कैंडिडेट को महज 11 हजार वोट कैसे मिला? जबकि वहां एक लाख 75 हजार मेंबर बनाये गए थे। बाराचट्टी गया में चिराग पासवान ने 200000 सदस्य बनाया लेकिन लोजपा  उम्मीदवार को सिर्फ 11244 मत प्राप्त हुए।

चिराग के फर्जीवाड़े की लगातार खोल रहे पोल

लोजपा सुप्रीमो की कार्यप्रणाली से नाखुश होकर लोजपा छोड़े नेताओं ने सीधे चिराग पर सनसनीखेज आरोप लगाए हैं। 2 दिन पहले जेडीयू में शामिल हुए केशव सिंह समेत तीन नेताओं ने शनिवार को चिराग पासवान के फर्जीवाड़े पर देश की आम जनता के नाम खुला पत्र लिखा  था। आज एक बार फिर से चिराग की पोल-पट्टी खोली है। केशव सिंह अब जमुई जायेंगे लोजपा सांसद चिराग को उनके क्षेत्र में ही घेरेंगे और फर्जीवाड़े की कहानी लोगों को बतायेंगे।

केशव सिंह ने चिराग को बताया ठगों का राजा

देश के नाम लिखे गए खत में कहा गया है कि चिराग पासवान देश के एक ठग और फर्जी सांसद हैं। पत्र में उल्लेख है कि चिराग पासवान को फर्जी इसलिए कह रहा हूं कि इनके फर्जीवाड़े की सूची इतनी लंबी है कि बिहार की जनता को बताना जरूरी है। लोकसभा पोर्टल में अपनी शिक्षा बीटेक कम्प्यूटर साइंस बताया है। लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में दिए शपथ में स्वयं को बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी झांसी से प्रथम एवं द्वितीय सेमेस्टर 2005 को देखकर तृतीय सेमेस्टर में खाली छोड़ खुद बता दिया कि मैं बी टेक नहीं हूं। केशव सिंह एवं अन्य नेताओं द्वारा देश की जनता के नाम लिखे गए पत्र में कहा है कि चिराग 8-8 कंपनियों के निदेशक एवं कई ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं. लेकिन 2014 के चुनाव के शपथ पत्र में कई कंपनियों को नहीं दर्शाया. जबकि आप चार कंपनियों के मालिक थे वहीं आठ कंपनी होने के बाद भी 2019 में मात्र 6 कंपनियों को शपथ पत्र में दर्शाया है. पत्र में सभी आठ कंपनियों का नाम भी उल्लेख किया गया है ।खुला पत्र में आरोप है कि चिराग पासवान ने क्रिस्टल बिजनेस वेंचर प्राइवेट लिमिटेड एवं प्रेपयं इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को फर्जीवाड़ा कर छुपाया है ।

जदयू में शामिल हुए नेताओं ने आरोप लगाया है कि आप इतने बड़े फर्जी हैं कि अध्यक्ष बनते ही ठगी की नियत से अकेले चुनाव लड़ने का ढिंढोरा पीटा।  फरवरी 2020 चुनाव के नाम एवं टिकट देने की शर्त रखकर 25000 प्राथमिक सदस्य के नाम पर ढाई- ढाई लाख रुपए ठगे.साथ ही विज्ञापन के नाम पर दो-दो लाख की ठगी की। लेकिन आपको 143 सीटों पर ढिंढोरा पीटने के बाद भी 54 विधानसभा क्षेत्रों में 94 नेताओं द्वारा सदस्यता भी चलाया गया । लालगंज वैशाली में 75 हजार सदस्य बनाए गए लेकिन आप के प्रत्याशी को मात्र 11000 ही वोट आया। यह आपके फर्जीवाड़ा की पहचान है। बाराचट्टी गया में आपके दल ने 200000 सदस्य बनाया लेकिन आप की उम्मीदवारी को 11244 मत प्राप्त हुए।

केशव सिंह ने कहा... हे फर्जी चिराग आपके दल में मात्र 54 जगह चुनाव लड़ने की इच्छा दिखाने वाले नेता रहने के बावजूद आपने 135 सीटों पर एनडीए से बाहर आकर चुनाव लड़ा तथा गठबंधन को लाभ पहुंचाया। आपने प्रशांत किशोर के साथ दलाली एवं फर्जीवाड़ा कर कितना कमाया इसका जवाब दें। आप स्वयं फर्जीवाड़ा करने वाले गैंग के राजा हैं। आप ही सदस्यता चलाने वाले साथी का टिकट काट कर दूसरे दल से आए गद्दार को टिकट देकर सम्मानित किया आप गद्दारों का सम्राट बन बैठे हैं।हालांकि लोजपा ने इन आरोपों को खारिज किया है और कहा है कि इस तरह के आरोप पूरी तरह से निराधार हैं.

Find Us on Facebook

Trending News