विधानसभा में बिहार का आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट पेश : कोरोना काल में बढ़ी लोगों की प्रति व्यक्ति आय, 10.5 फीसदी रहा विकास दर

विधानसभा में बिहार का आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट पेश : कोरोना काल में बढ़ी लोगों की प्रति व्यक्ति आय, 10.5 फीसदी रहा विकास दर

पटना। बिहार विधानमंडल के बजट सत्र के पहले दिन राज्य के आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 की रिपोर्ट पेश की गई. डिप्टी सीएम और वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने रिपोर्ट को पहली बार सदन में पेश किया. सभी सेक्टरों के वित्तीय वर्ष 2019-20 के आंकड़ों को आधार बनाकर रिपोर्ट तैयार की गई है. कुछ विभागों के आंकड़ें सितंबर 2020 तक के लिए गए हैं। 

आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 के मुताबिक राज्य की विकास दस 10.5% रही. कोरोना संकट के बावजूद बिहार की विकास दर बेमिसाल है. इस दौरान लोगों की आमदनी भी बढ़ी है. इस अवधि में प्रति व्यक्ति आय 31 हजार 287 रुपए रही, जो 2018-19 की प्रति व्यक्ति आय 28 हजार 668 रुपये की तुलना में 2,619 रुपए ज्यादा है. हालांकि, बिहार में प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत से 32 प्रतिशत कम है. वहीं, स्थिर मूल्य पर अगर प्रति व्यक्ति आय की स्थिति देखी जाए तो 2019-20 में यह 34 हजार 413 रुपये है, जो 2018-19 के प्रति व्यक्ति आय 31 हजार 626 रुपये से ज्यादा है. वर्तमान मूल्य पर इस अवधि में यह 50 हजार 735 रुपये है.

बतौर वित्तमंत्री पहली आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट सदन में रखने वाले उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने बताया कि इस बार रिपोर्ट में 13 अध्याय हैं। खास बात यह है कि हर अध्याय के अंत में कोरोना काल में महामारी के असर और उसके प्रभाव को कम करने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के प्रभाव का उल्लेख किया गया है। कहा कि वर्ष 2019-20 में वर्तमान मूल्य पर बिहार का सकल राज्य घरेलू उत्पाद (एसजीडीपी) 6,11,804 करोड़ और 2011-12 के स्थिर मूल्य पर 4.14.977 करोड़ रुपए रहा



Find Us on Facebook

Trending News