कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव : मतदान खत्म होने के पहले ही संजय जायसवाल ने कर दिया बड़ा दावा, जनता से शराबी-माफिया को वोट नहीं डालने की अपील

कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव : मतदान खत्म होने के पहले ही संजय जायसवाल ने कर दिया बड़ा दावा, जनता से शराबी-माफिया को वोट नहीं डालने की अपील

पटना/दिल्ली. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने सोमवार को कहा कि कुढ़नी में चल रहे विधानसभा उपचुनाव के मतदान में जनता किसी माफिया और शराबी को नहीं चुनेगी. उन्होंने बिना किसी का नाम लिए जदयू पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा, कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव बिहार के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। मतदाताओं को यह तय करना है कि उनका प्रतिनिधि सेवक होना चाहिए या माफिया। मतदाताओं को तय करना है कि प्रतिनिधि आपके हर सुख दुख में साथ रहने वाला हो या खुद कुर्सी पर बैठकर आपको सामने स्टूल पर बैठाए। आपके साथ हर कार्यक्रम में उपस्थित रहने वाला प्रतिनिधि चाहिए या फिर कहीं बैठकर नीतीश कुमार की शराबबंदी कानून का उल्लंघन करने वाला व्यक्ति हो। इसलिए कुढ़नी की जनता बेहद होशियार है और उम्मीद है कि वह सही निर्णय लेगी। 

दरअसल, संजय जायसवाल शुरू से कुढ़नी में जदयू उम्मीदवार को लेकर निशाना साधते रहे हैं. मतदान के दिन एक बार फिर से उन्होंने जदयू की ओर इशारा करते हुए जमकर कटाक्ष किया. उन्होंने बिना किसी का नाम लिए प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार को निशाने पर लिया. साथ ही कुढ़नी के बहाने नीतीश की नीतियों की भी आलोचना की. विशेषकर शराबबंदी को असफल बताते हुए जमकर सुनाया. साथ ही भाजपा उम्मीदवार की जीत को लेकर भी वे आश्वस्त दिखे. 


जायसवाल ने रोजगार के मुद्दे पर भी नीतीश सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा, भारतीय जनता पार्टी अपने चुनावी वादों के अनुरूप कार्य कर रही थी उसके उलट महागठबंधन 10 लाख नौकरी देने के अपने वादे को पूरा नहीं कर पाई है। विशेषकर एसटीइटी के मामले में जो 1 लाख 15 हजार नौकरी देने का वादा है उसे तो पूरा किया जाना चाहिए। महागठबंधन का यह वादा था कि बच्चे की परीक्षा देने कहीं जाएंगे तो उन्हें आने-जाने का खर्च मिलेगा। महागठबंधन ने वादा किया था कि हम सभी संविदा आधारित नौकरियों को समाप्त कर उसकी जगह सरकारी नौकरी देंगे। यह कब दिया जाएगा?

महागठबंधन के अन्य दलों को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा,  भारतीय जनता पार्टी का सवाल माले के दीपांकर भट्टाचार्य से भी है। वे भाषण देते रहे कि हम रसोईया, आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को पूरी सैलरी दिलवाएंगे और उनके पेंशन की व्यवस्था करेंगे। दीपंकर आज सरकार का हिस्सा हैं। उन्हें बताना चाहिए कि वह अपने घोषणापत्र को कब लागू कर रहे हैं। कांग्रेस ने किसानों के कर्ज माफी की घोषणा की थी उनका घोषणा पत्र में कब पूरा होगा? इसका हिसाब कांग्रेस के लोग दें। भारतीय जनता पार्टी ने रोजगार की दिशा में जो वादा किया था उस दिशा में हम लगातार काम कर रहे थे। उद्योग विभाग में बिहार में भाजपा ने ऐतिहासिक काम किया। महागठबंधन को भी अपने घोषणापत्र के अनुरूप उसे लागू करना चाहिए। उसके लागू नहीं होने पर सवाल पूछा जाएगा।


Find Us on Facebook

Trending News