कुदरत के साथ क्रूर खिलवाड़: जापान में जानवर की कोख से इंसान पैदा करने की कवायद, अस्तित्व में आ सकता है आधा इंसान आधा जानवर

कुदरत के साथ क्रूर खिलवाड़: जापान में जानवर की कोख से इंसान पैदा करने की कवायद, अस्तित्व में आ सकता है आधा इंसान आधा जानवर

डेस्क: एक ऐसा प्रोजेक्ट जो दुनिया को कर सकता है तबाह जापान करने जा रहा है कुदरत से खिलवाड़ जी हां जापान सरकार ने एक खास शोध के लिए सरकारी सहायता देने की शुरुआत की है. वैज्ञानिक उस तरीके पर काम कर रहा है, जिससे पशुओं के गर्भ में मानव-कोशिकाओं का विकास हो सकेगा. यानी जानवर एक तरह से सरोगेट मां की तरह काम करेंगे, जिनकी कोख से वैसी कोई चीज जन्म लेगी, जिसके शरीर में इंसानी अंग हों. आप को बता दें जापान से पहले कई देश इसे कुदरत से खिलवाड़ बताते हुए ऐसे प्रोजेक्ट को नामंजूर कर चुके हैं. इनमें अमेरिका भी एक देश है. वहां साल 2015 से पहले लैब्स में इस तरह की कोशिशें चल रही थीं लेकिन फिर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ इसे गलत बताते हुए इस तरह के किसी भी प्रोजेक्ट पर रोक लगा दी. 

वहीं जापान के साइंटिस्ट कुदरती प्रक्रिया को चुनौती देते हुए जानवर की कोख से इंसान के जन्म लेने के प्रोजेक्ट पर जुट गए हैं. अगर ये हो सका तो ये साइंस का सबसे बड़ा कारनामों में से एक हो सकता है. जापान के साइंटिस्ट ने इसका खाका भी तैयार कर लिया है, कि कैसे इस प्रोजेक्ट को अंजाम देना है. शुरुआती तौर पर इसमें चूहे के गर्भाशय में ह्यूमन सेल्स डेवलप किए जाएंगे. इसके बाद के चरण में जानवर की कोख में सेरोगेसी की संभावना देखी जाएगी. यानी इंसान के भ्रूण को जानवर के गर्भाशय में डेवलप करने की प्रक्रिया पर काम किया जाएगा. कुदार से खिलवाड़ कितना महंगा परेगा ये तो वक्त बताएगा विज्ञान की दुनिया में इंसान एक से बढ़कर एक प्रयोग कर रहा है. कृत्रिम अंग प्रत्यारोपण जैसी मुश्किल और एक समय पर असंभव समझी जाने वाली प्रक्रिया अब आम है. 

इसी कड़ी में वैज्ञानिक और आगे बढ़ने की सोच रहे हैं. जापान में हिरोमित्सू नकॉची (Hiromitsu Nakauchi) नाम के वैज्ञानिक, जो यूनिवर्सिटी ऑफ टोक्यो में स्टेम सेल के अगुआ हैं, उन्हें जापान सरकार ने जानवरों की कोख में इंसानी भ्रूण के विकास पर प्रयोग करने की इजाजत दे दी. वैज्ञानिक अपनी टीम समेत इसपर काम भी शुरू कर चुके हैं. टीम की योजना ये है कि पहले चूहों के एंब्रियो में मानव कोशिकाएं विकसित की जाएं और फिर उस एंब्रियो को सरोगेट जानवरों के गर्भ में प्रत्यारोपित कर दिया जाए. इस प्रयोग का असल मकसद इंसानी शिशु बनाना नहीं, बल्कि ऐसे पशु तैयार करना है, जिनके शरीर के अंग मानव कोशिकाओं से बने हों ताकि जरूरतमंद इंसानों में ये प्रत्यारोपित किए जा सकें. अगर वो जाग गया तो कौन बचाएगा इस दुनिया को इस प्रोजेक्ट में सबसे खतरनाक बात ये है कि ये इसका अगला चरण अपने मकसद से भटक सकता है. अगर ये प्रोजेक्ट कामयाब हो गया तो फिर संभव है कि आने वाले वक्त में एक ऐसा जीव अस्तित्व में आ जाए जो आधा इंसान और आधा जानवर हो. या फिर ये भी हो सकता है कि गर्भ में भ्रूण के पलने से इंसानी कोशिकाएं किसी तरह बढ़ते हुए पशु के दिमाग तक भी पहुंच जाएं. ऐसे में उसका मस्तिष्क बुरी तरह से प्रभावित हो सकता है. इसी बात को देखते हुए दुनिया के कई देशों ने इस तरह के प्रोजेक्ट रोक दिए. ऐसे प्रोजेक्ट को आर्थिक सहायता देनी बंद कर दी. हालांकि जापान की एजुकेशन और साइंस मिनिस्ट्री ने सालभर पहले इसे अप्रूव कर दिया. अगर किसी जानवर की पास इंसानी दिमाग हो तो उसके लिए कुछ भी करना नामुमकिन नहीं रहेगा.

Find Us on Facebook

Trending News