लखीसराय : नक्‍सलवाद के आरोप में दो लोग गिरफ्तार होने पर भड़के आदिवासी, पुलिस से हुई भिड़ंत, पुलिस लाठीचार्ज में दो महिला घायल

लखीसराय : नक्‍सलवाद के आरोप में दो लोग गिरफ्तार होने पर भड़के आदिवासी, पुलिस से हुई भिड़ंत, पुलिस लाठीचार्ज में दो महिला घायल

लखीसराय. चानन थाना क्षेत्र में नक्‍सलवाद के आरोप में दो लोगों की गिरफ्तारी के बाद भड़के आदिवासियों से पुलिस की भिड़ंत हो गई. झड़प के बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया, जिसमें दो महिलाओं के घायल होने की खबर है.

दो लोगों को किया गया गिरफ्तार

मिली जानकारी के अनुसार गिरफ्तार लोगों को छुड़ाने के लिए आदिवासी समुदाय के लोग थाना पहुंचे थे. मंगलवार की सुबह जानकीडीह बेलदरिया से पुलिस ने राजेन्द्र कोड़ा एवं कैलू कोड़ा को हिरासत में लिया था. दोनों के पकड़े जाने की सूचना जब गांव के आदिवासियों को मिली तो वे चानन थाना पहुंच गए. पारंपरिक हथियारों से लैस गांववालों ने चानन थाने पहुंचकर जमकर हंगामा किया. हंगामे के बीच पुलिस और आदिवासियों में झड़प भी हुई. इसके बाद पुलिस ने आदिवासियों पर जमकर लाठीचार्ज किया.


नक्सलियों के नाम पर किया जा रहा प्रताड़ित

इसमें दो महिलाएं मूसो देवी और सीता देवी को मामूली रूप से चोटिल हो गईं है. प्रदर्शन कर रहे आदिवासियों ने बताया कि नक्सली के नाम पर अक्सर पुलिस उन लोगों को प्रताड़ित करती है. कुछ लोगों ने कहा कि यह बात सच है कि उस इलाके में अमूमन नक्सलियों का आना जाना रहता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम सब भी नक्सलियों के लिए काम करते हैं या उनकी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सहायता करते हैं. उन लोगों से उलझना भी हम लोगों के बस की बात नहीं है. ऐसे में पुलिस द्वारा बार-बार नक्सली के नाम पर गिरफ्तार करना, पिटाई करना हम लोगों के लिए एक तरफ कुआं और दूसरी तरफ खाई वाली स्थिति पैदा कर रही है.

वहीं नक्सली हम लोगों को परेशान करते हैं तो इधर पुलिस. आदिवासी महिलाओं ने कहा कि जिन दो लोगों को बुधवार को हिरासत में लिया गया वे लोग गरीब परिवार से हैं. आरोप लगाया कि पुलिस ने बेवजह उन लोगों को पकड़ा है. बताया जा रहा है कि पुलिस ने इस हंगामे के बाद राजेंद्र कोड़ा को पुलिस ने पीआर बांड पर छोड़ दिया है. वहीं कैलू के बारे में बताया गया है कि उसे एसटीएफ की टीम जमालपुर ले गई है. कैलू कोड़ा को 61/18 एवं 71/21 में आरोपी है.

गार्ड से की मारपीट

इस मामले में चानन थाना अध्यक्ष वैभव कुमार ने कहा कि आदिवासियों ने पहले थाना के मुख्य गेट पर मौजूद हमारे गार्ड के साथ मारपीट की. इसी के जवाब में हल्का बल का प्रयोग किया गया. राजेन्द्र कोड़ा को वरीय पुलिस पदाधिकारी के निर्देश पर पीआर बांड भरवाकर छोड़ा गया है.


Find Us on Facebook

Trending News