बीपीएससी परीक्षा की तैयारी छोड़कर 22 साल की आकांक्षा बन गयी पंचायत की मुखिया, कहा दिवंगत पिता के सपनों को पूरा करना है

बीपीएससी परीक्षा की तैयारी छोड़कर 22 साल की आकांक्षा बन गयी पंचायत की मुखिया, कहा दिवंगत पिता के सपनों को पूरा करना है

KHAGARIA : बिहार में आजकल त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराया जा रहा है। कई जगहों पर चुनाव कराये जा चुके हैं। जबकि कई जगहों पर अभी चुनाव कराया जाना बाकी है। हालाँकि जहाँ चुनाव हो चुके हैं, वहां नवजवान प्रत्याशी भी काफी संख्या चुनाव जीतकर सामने आ रहे हैं। इसी कड़ी में जिले में एक 22 साल की बेटी ने अपने दिवंगत पिता के सपने को साकार करने के लिए  BPSC परीक्षा की तैयारी छोड़कर मुखिया का चुनाव लड़ने का फैसला किया। इस पंचायत की जनता ने उसे शानदार मतों से विजय दिलाया है। 

भाकपा नेता और पूर्व मुखिया दिवंगत जगदीश चन्द्र बसु की बेटी आकांक्षा बसु अलौली प्रखण्ड के मेघोना पंचायत से मुखिया का चुनाव जीत गयी है। दो हजार 8 सौ 6 मतों से उन्हें जीत हासिल हुई है। दरअसल फिजिक्स से स्नातक की डिग्री लेने वाली आकांक्षा बसु दिल्ली में रहकर BPSC की तैयारी कर रही थी। वह अधिकारी बनना चाह रही थी। अपने सपने को पूरा करने के लिए प्रयास भी शुरू कर दी थी। 


इसी दौरान पिछले साल उनके पिता जगदीश चन्द्र बसु की बदमाशों गोली मारकर हत्या कर दी। जगदीश चन्द्र बसु मेघोना पंचायत के 4 टर्म के मुखिया रहे थे। जगदीश अपने पंचायत को आदर्श पंचायत बनाने के मुहिम में जुटे थे। लेकिन बदमाशों ने उनकी हत्या कर दी। लिहाजा अपने पिता के सपने को पूरा करने आकांक्षा दिल्ली छोड़ अपने पंचायत मेघोना आ गयी और मुखिया का चुनाव लड़ी। जिसमे उसे शानदार जीत मिली। आकांक्षा की माने तो यह जीत पंचायतवासियों की जीत है। दिवंगत पिता के सपने को पूरा करना उनकी प्राथमिकता है।

उधर दरभंगा जिले के सिंघवाड़ा जिला परिषद क्षेत्र संख्या 2/2 से रंजना कुमारी लगभग पांच हजार वोट से विजयीं घोषित हुई। पिछले कभी दिनों से क्षेत्रों में सामाजिक क्षेत्रों में उनकी भागीदारी को लेकर जनता ने उन्हें अपना जिला परिषद चुन लिया है। रंजना कुमारी की उम्र महज 23 साल बताई जा रही है।

खगड़िया से अनिश और दरभंगा से वरुण ठाकुर की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News