कोर्ट से वारंट जारी होने के बाद यूपी से शराब माफिया गिरफ्तार, लग्जरी कार से बिहार भेजता था शराब

कोर्ट से वारंट जारी होने के बाद यूपी से शराब माफिया गिरफ्तार, लग्जरी कार से बिहार भेजता था शराब

पटना. बिहार में पूर्ण रुपेन शराबबंदी है, लेकिन राजधानी पटना समेत प्रदेश के कई हिस्सों में लगातार शराब की खेप पहुंच ही रही है। इस बीच मद्य निषेध इकाई की टीम ने उत्तर प्रदेश के पडरौना से शराब माफिया को गिरफ्तार किया है। शराब माफिया के खिलाफ न्यायालय से वारंट जारी किया गया था। इसके बाद मद्य निषेध इकाई की टीम ने कार्रवाई करते हुए यूपी के पडरौली निवासी राणा सिंह को गिरफ्तार किया है। राणा सिंह यूपी से ट्रक और लग्जरी कार से बिहार में शराब की बड़ी खेप भेजता था।

मिली जानकारी के अनुसार बिहार में शराबबंदी कानून लागू होने के बाद राणा सिंह द्वारा बिहार के अवैध शराब कारोबारियों के साथ मिलकर उत्तर प्रदेश से ट्रकों और छोटे वाहनों एवं लग्जरी गाड़ियों से बड़े पैमाने पर बिहार के विभिन्न जिलों में अवैध शराब की खेप शराब कारोबारियों को भेजी जा रही थी। दरियापुर (सारण) थाना कांड सं0-369 / 22 में राणा सिंह के विरूद्ध न्यायालय से वारंट निर्गत होने के बाद मद्य निषेध इकाई ने इनकी गिरफ्तारी के लिए एक विशेष टीम का गठन किया। इस क्रम में मद्य नषेध की टीम द्वारा उत्तर प्रदेश राज्य में कैम्प करके राणा सिंह गिरफ्तारी के लिए आसूचना संकलन किया जाने लगा।

इस बीच मद्य निषेध इकाई की विशेष टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर उत्तर प्रदेश के पडरौनी जिले से राणा सिंह को गिरफ्तार किया है। यह बड़ा शराब माफिया है। इनके द्वारा ट्रकों, छोटे वाहनों एवं लग्जरी गाड़ियों से शराब की खेप लोड कर बिहार के शराब कारोबारियों को बराबर भेजा जा रहा था। इनके द्वारा शराब का अवैध व्यापार कर अकूत संपति अर्जित की गयी है। शराब कारोबारी राणा सिंह की गिरफ्तारी से बिहार राज्य में प्रतिबंधित शराब को अवैध ढंग से भेजने वाले शराब कारोबारियों एवं आपूर्तिकर्ताओं पर व्यापक प्रभाव पड़ने की संभावना है। पूछताछ से बिहार के अवैध शराब कारोबारियों का पर्दाफाश एवं इनसे बिहार के मद्यनिषेध से संबंधित अन्य कांडो में संलिप्त होने की सम्भावना है।

मद्य निषेध इकाई द्वारा बड़े शराब कारोबारियों के विरूद्ध चलाये जा रहे अभियान के तहत वर्ष 2022 में राज्य से बाहर (पश्चिम बंगाल, हरियाणा, पंजाब, आसाम, अरूणाचल प्रदेश, दिल्ली, उत्तर प्रदेश एवं झारखण्ड राज्य) यह 64वीं गिरफ्तारी है। मद्य निषेध इकाई के पुलिस उपाधीक्षक सुबोध कुमार के नेतृत्व में पु०नि० अमित कुमार एवं पु०नि० सर्वेश्वर नाथ दुबे के सहयोग से यह गिरफ्तारी की गयी है।


Find Us on Facebook

Trending News