माफियागिरीः मोतिहारी निबंधन कार्यालय में रिश्वत की शिकायत KK पाठक तक पहुंची, दो कर्मियों के खिलाफ केस, भ्रष्ट को बचाने में जुटी थी जिला अवर निबंधक

माफियागिरीः मोतिहारी निबंधन कार्यालय में रिश्वत की शिकायत KK पाठक तक पहुंची, दो कर्मियों के खिलाफ केस, भ्रष्ट को बचाने में जुटी थी जिला अवर निबंधक

MOTIHARI:  मोतिहारी के जिला निबंधन कार्यालय में बड़ा खेल हो रहा है। जमीन की रजिस्ट्री के नाम पर बड़े स्तर पर धन की उगाही हो रही है। जमीन को रोक पंजी में बताकर क्रेता पर दबाव बनाकर अवैध पैशे की वसूली हो रही है। पीड़ित ने पैसा देने का वीडियो बना लिया। इसके बाद शिकायत निबंधन विभाग के अपर मुख्य सचिव के.के पाठक से की। फिर क्या था मुख्यालय स्तर से निबंधऩ आईजी को जांच के लिए भेजा गया। जांच में आरोप प्रमाणित पाये। इसके बाद मोतिहारी जिला निबंधन कार्यालय के दो कर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। वहीं जिला अवर निबंधक पर कर्मियों व दलालों से सांठगांठ को लेकर शो-कॉज पूछा गया है। 

1.75 लाख की वसूली 

निबंधन आईजी ने 1 सितंबर को मोतिहारी जाकर रजिस्ट्री ऑफिस में जांच की थी. साथ में जिला अवर निबंधक वंदना कुमारी से भी पूछताछ की थी. दरअसल बनकट के शिव प्रकाश चौधरी से खाता संख्या 26 खेसरा संख्या 563 के निबंधन के लिए कार्यालय के दो कर्मी कृष्णा सिंह एवं राजीव श्रीवास्तव ने डेढ़ लाख रुपए की मांग की थी। इसकी शिकायत अपर मुख्य सचिव केके पाठक से की गई थी। साथ ही शख्स ने अवैध पैसा मांगने का वीडियो भी बना लिया था.

निबंधन आईजी ने 1 सितंबर को की थी जांच

अपर मुख्य सचिव के निर्देश के बाद निबंधन महा निरीक्षक ने 1 सितंबर को मोतिहारी जाकर जांच की थी. वीडियो में स्पष्ट था कि दो व्यक्तियों के बीच वार्तालाप था, जिसमें जमीन को रोक सूची से हटा कर भूमि के निबंधन के बदले डेढ़ लाख रुपए नाजायज राशि की मांग की जा रही थी. प्रारंभिक जांच में मामला सही पाया गया है कि दोनों व्यक्तियों ने परिवादी से 1 लाख 75 हजार निबंधन के लिए लिया गया. जिसमें 1 लाख 26 हजार स्टांप के लिए व बाकी कमीशन के नाम पर लिया गया . जांच के बाद निबंधन महा निरीक्षक ने आरोप को सही पाया और दोनों के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया.आईजी द्वारा तुरंत केस दर्ज किये जाने के आदेश के बाद भी मोतिहारी के जिला अवर निबंधक ने केस नहीं किया।

आदेश के बाद भी जिला अवर निबंधक ने नहीं किया था केस

इसके बाद मुख्ालय सख्त हो गया और जिला अवर निबंधख वंदना कुमारी के खिलाफ कार्रवाई से पहले श्पष्टीकरण की मांग की गई है। मद्ध निषेध विभाग के संयुक्त सचिव विनय कुमार ने जिला अवर निबंधक से श्पष्टीकरण की मांग की है। विभाग के तल्ख तेवर के बाद अब जाकर रिश्वत लेने वाले दोनों कर्मियों के खिलाफ अवर निबंधक ने केस दर्ज कराया है। मोतिहारी के जिला अवर निबंधख से पूछा गया है कि अभी तक आपके द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई है. ऐसा प्रतीत होता है कि कार्यालय में अनाधिकृत व्यक्तियों का आना जाने वाले लोगों की अवैध गतिविधियों में आपकी संलिप्तता है। आपका कार्यालय पर कोई नियंत्रण नहीं है. आदेश के बाद भी संलिप्त व्यक्तियों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई ,जो वरीय पदाधिकारी के आदेश की अवहेलना है. क्यों नहीं पूरे प्रकरण में आपको संलिप्त मानते हुए आप पर भी प्राथमिकी दर्ज की जाए. 2 दिनों के अंदर स्पष्टीकरण समर्पित करें.

खुद पर लटकी तलवार तब जाकर किया केस

 विभाग के तल्ख तेवर के बाद जिला अवर निबंधक ने आरोपी लिपिक कृष्णा कुमार सिंह और संजय कुमार के खिलाफ नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है. अब पुलिस इस मामले की जांच करेगी। तीन सितंबर के डेट में ही टाउन थाने में केस दर्ज किया गया है। 

Find Us on Facebook

Trending News