बेटी दामाद ने महिला पुजारी को मंदिर से किया बेदखल, दर दर की ठोकर खा रही माँ

बेटी दामाद ने महिला पुजारी को मंदिर से किया बेदखल, दर दर की ठोकर खा रही माँ

GAYA : शहर के स्वराजपुरी रोड स्थित मंदिर की वृद्ध महिला पुजारी को बेटी दामाद ने मंदिर से बेदखल कर दिया और खुद मंदिर के पुजारी बन गए हैं. श्रद्धालुओं के दान में दिए गए नगदी व वस्त्र को बेटी दामाद ही रखते हैं. जिससे महिला पुजारी की परेशानी बढ़ गयी है. वृद्ध महिला का कोई सहारा नहीं है. उनके पति की पहले की मौत हो चुकी हैं.  

इस मामले को लेकर पीड़िता वृद्ध महिला सुमित्रा देवी बताती है कि जब मंदिर का निर्माण पूरा नहीं हुआ था. तब से मंदिर की सेवा भाव से देखभाल कर रही है. आज वृद्ध अवस्था में मेरा सहारा कोई नहीं है. सब अलग रहते है. ना मेरे साथ बेटा है. ना बेटी है. मेरे पति के मौत पहले ही हो चुकी है. उनके  कर्मकांड का सारा खर्च मैंने ही किया. बेटी दामाद ने कुछ नहीं किया. अब दोनों मिलकर अश्लील गाली गलौज करते हैं. 

इस संदर्भ में वृद्ध महिला की बेटी आरती देवी बताती है कि मैं अपने पिताजी के साथ 40 वर्ष से साथ में हूं. जब पिताजी 17 रुपए में में किराए के मकान में रहते थे. तब से मैं उनके साथ है. उनका साथ दिया हूं. आज जब मेरे भाई बहन को पिताजी की संपत्ति की जानकारी मिली तो सब लोग खड़ा होकर संपत्ति लेना चाहते हैं. जबकि पिताजी के साथ सेवा भाव हमने किया है. इसके साथ बेटी बताती है कि मेरा छोटा बेटा मंदिर का देखभाल पूजा पाठ करता है और उसका सब कुछ देखभाल हमारे लोग करते हैं. इसमें कुछ नहीं है.

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News