तारीफ और तंज साथ-साथः मांझी ने CM नीतीश को दी नसीहत,कहा- सही मायने में संकट से निबटना है तो गांवों के अस्पताल को सुव्यवस्थित करें

तारीफ और तंज साथ-साथः मांझी ने CM नीतीश को दी नसीहत,कहा- सही मायने में संकट से निबटना है तो गांवों के अस्पताल को सुव्यवस्थित करें

PATNA: बिहार में कोरोना के इस संकट में लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा है। बिना अस्पताल-बेड-ऑक्सीजन के लोग तड़पते रहे,न जाने कितने लोगों की जान भी चली गई। कोरोना के इस संकट में सुशासन की सरकार के स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खुल गई। कुछ बड़े अस्पतालों को छोड़ दें तो बाकि के अस्पताल जिन पर हर साल मेंटेनेन्स और स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के नाम पर हर साल पानी की तरह पैसे बहाये जाते हैं वो तबेला बन चुके हैं। उन अस्पतालों में आदमी की इलाज की जगह जानवरों का बसेरा हो गया है। सुशासन राज में निचले स्तर की स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खुलने के बाद एक बार फिर से विपक्ष के निशाने पर सीएम नीतीश हैं। राजद लगातार बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खोल रहा है। अब तो नीतीश कुमार के सहयोगी भी मुख्यमंत्री को चिढ़ा रहे हैं।

लॉकडाउन कोरोना का समाधान नहीं

अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने एक बार फिर नसीहत के बहाने सुशासन राज की स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल खड़े किये हैं। साथ हीं कोरोना संक्रमण रोकने को लेकर मुख्यमंत्री द्वारा लगाये गए लॉकडाउन को समाधान नहीं बताया है।मांझी ने ट्वीट कर कहा कि अपने बेहतर और अद्वितीय कार्य से कोरोना में कमी लाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को धन्यवाद। वैसे लॉकडाउन कोरोना का समाधान नहीं. सही मायने में स्वास्थ्य संकट से निपटना है तो गाँवों के उप स्वास्थ्य केन्द्रों तक को सुव्यवस्थित करना होगा ताकि भविष्य में स्वास्थ्य संकटो से निपटा जा सके।

बयान के बाद कई बार पलटी मार चुके हैं मांझी

वैसे पूर्व सीएम जीतनराम मांझी अब तक कई दफे बयान देकर पलटी भी मार चुके हैं। कुछ दिन पहले ही पीएम मोदी पर तल्ख टिप्पणी की थी । उन्होंने कहा था कि तस्वीर छपवाने का इतना ही शौक है तो मृत्यु प्रमाण पत्र भी अपनी तस्वीर लगवा लें। विवाद बढ़ने के बाद जीतनराम मांझी ने तुरंत यूटर्न ले लिया और ट्वीट डिलीट कर लिया। 

Find Us on Facebook

Trending News