महागठबंधन में मांझी का नया पैंतरा, कहा- वे किसी के बंधुआ मजदूर नहीं, रालोसपा से चाहिए अधिक सीट

PATNA : हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने महागठबंधन से खुली बगावत कर दी है। जीतनराम मांझी ने कहा कि वे किसी के बंधुवा मजदूर नहीं है। पटना में पार्टी की कोर ग्रुप की बैठक के बाद जीतनराम मांझी ने कहा कि महागठबंधन में उनकी पार्टी को उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी से ज्यादा सीटें चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर उनकी पार्टी को ज्यादा सीटें और उचित सम्मान नहीं मिला तो वे अलग रास्ता अख्तियार कर लेंगे। 

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी पार्टी की ताकत उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी से ज्यादा है। इसलिए उनकी पार्टी को लोकसभा चुनाव में ज्यादा सीटें मिलनी चाहिए। जीतनराम मांझी ने कोर ग्रुप की बैठक के बाद यह साफ कर दिया कि अगल महागठबंधन में सम्मानजनक सीटें नहीं मिली तो वे अलग रास्ता चुन लेंगे। उन्होंने कहा कि महागठबंधन में उनकी पार्टी को उचित सम्मान नहीं मिल रहा है।

जीतनराम मांझी ने मीडिया में आ रही उन खबरों का खंडन किया जिसमें HAM को एक या दो सीट मिलने की बात कही जा रही है। मांझी ने इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि लगता है कि महागठबंधन के नेता ही इस तरह की खबरें प्लॉट करवा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोई उनको कमतर नहीं आंके। महागठबंधन  में सम्मानजनक सीटें नहीं मिली तो हम अलग रास्ता चुन लेंगे।

जीतनराम मांझी ने कहा कि वे सीट शेयरिंग को लेकर आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव से मुलाकात करेंगे। इसको लेकर महागठबंधन के दलों के साथ भी चर्चा करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर बात नहीं बनी तो फिर 18 फरवरी को कोर ग्रुप की बैठक में अंतिम फैसला लिया जाएगा।

Find Us on Facebook

Trending News