मुस्लिम समुदाय से आने वाली महखड़ पंचायत की मुखिया ने गरीब छठव्रतियों के बीच किया सूप वितरण

मुस्लिम समुदाय से आने वाली महखड़ पंचायत की मुखिया ने गरीब छठव्रतियों के बीच किया सूप वितरण

सहरसा... नहाय खाय के साथ ही बुधवार से लोक आस्था का महापर्व छठ शुरू हो गया। चार दिनों तक चलने वाले इस त्योहार पर लोग छठी मैय्या का व्रत रखकर अपने परिवार की सुख शांति की कामना करेंगे। बुधवार को शुरू होने वाले इस पर्व पर व्रत से पूर्व स्नान करने के बाद सात्विक भोजन ग्रहण किया जाता है। ऐसे में छठ पर्व नहाय खाय से शुरू होता है। इस दिन गंगाजल का इस्तेमाल कर प्रसाद बनाया जाता है। इसमें लोग लौकी की सब्जी, चने की दाल और सेंधा नमक का उपयोग करते हैं।  

वहीं, सहरसा जिले में छठ पर्व को लेकर गंगा-जमुनी की तहजीब देखने को मिल रहा है। जहां सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड की महखड़ पंचायत की मुस्लिम समुदाय से आने वाली मुखिया शगुफ्ता प्रवीण के द्वारा बीते चार वर्षों से गरीब छठ वर्तियों के बीच पीतल का सूप वितरण कर एक अनूठा उदाहरण प्रस्तुत कर रही हैं। शगुफ्ता प्रवीण पहलीबार मुखिया बनने के बाद अपने पंचायत में इस परंपरा की शुरुआत की। यह चौथा वर्ष है, जहां शगुफ्ता प्रवीण अपने पंचायत की गरीब, निसहाय करीब 200 छठ व्रतियों के बीच पीतल का सूप वितरण किया है। 

वहीं मुखिया शगुफ्ता परवीन ने का का कहना है कि गरीब परिवार हर साल बांस से निर्मित सूप खरीदकर छठ करने का बोझ उठाने में सक्षम नहीं हो पाते हैं। जिस वजह से लोक आस्था का महापर्व छठ पर्व के अवसर पीतल का सूप अपनी ओर से भेंट किया है। ताकि उसे हर बार सूप खरीदने में राशि खर्च नहीं करना पड़े। मुखिया ने कहा कि यह आस्था से जुड़ा संकल्प है जब तक सामर्थ्य रहेगा पूरा करूंगी।वहीं महखड़ पंचायत की मुखिया शगुफ्ता परवीन ने 200 छठव्रती के बीच पीतल सूप का वितरण कर चौथे वर्ष भी इस परंपरा को बरकरार रखने का प्रयास किया गया है।

धार्मिक मान्यता के अनुसार छठी माता को सूर्य देवता की बहन माना जाता है। छठ पर्व में सूर्य भगवान की उपासना करने से छठ माता प्रसन्न होती हैं और घर-परिवार में सुख-शांति और संपन्नता प्रदान करतीं हैं। इस बार शुक्रवार को छठ पर्व पर सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाएगा। इस दिन सूर्यास्त शाम को 5.31 बजे होगा। शनिवार को सुबह उगते सूर्य का अर्घ्य का समय 6.48 रहेगा। 

सहरसा से मो. शौकत अली की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News