मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले में चेरो स्वास्थ्य केंद्र की हालत दयनीय, जर्जर भवन और सुविधाएं नदारद

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले में चेरो स्वास्थ्य केंद्र की हालत दयनीय, जर्जर भवन और सुविधाएं नदारद

NALANDA : भले ही बिहार के मुखिया नीतीश कुमार सातवीं बार बिहार के सीएम बने हैं. लेकिन अगर नालन्दा जिले सरमेरा प्रखण्ड के चेरो गांव स्थित अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र पर एक बार भी नजर धूमाकर देख लेते तो शायद इस स्वास्थ्य केंद्र का कल्याण हो जाता. स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि यह छह सैय्या वाला स्वास्थ्य केंद्र पिछले 15 सालों से अपने बदहाली को लेकर आंसू बहाने को मजबूर है. 

आलम यह है की यहां पिछले 15 सालों में इस स्वास्थ्य केंद्र पर किसी एमपी, विधायक, मंत्री और स्थानीय प्रशासन का कोई ध्यान नहीं गया है. इस अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र पर चेरो गांव के अलावे बाहर गांव के लोग भी इलाज करवाने आते थे. बिल्डिंग के तरफ अगर नजर दौड़ाई जाए तो यह स्वास्थ्य केंद्र कम गोशाला नजर आता है. क्योंकि बिल्डिंग जर्जर होने के कारण यह अब जानवर और चारा रखने के काम आ रहा है. इस जर्जर भवन में लोगों का इलाज भगवान भरोसे ही होता है. कई बार तो इलाज के दौरान मरीज और डॉक्टर जर्जर भवन का मलवा गिरने से जख्मी भी हुए है. 


ग्रामीणों ने बताया कि इस अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र के बारे में मंत्री और विधायक को भी अवगत कराया गया. लेकिन पिछले 15 सालों में सिर्फ आश्वासन ही मिला. देख रेख के अभाव में बिल्डिंग पूरी तरह से खंडहर में तब्दील हो गया है. बिल्डिंग के अंदर विषैले जानवर और जंगल झाड़ ने अपना डेरा जमा लिया है. यही कारण है की अब इस बिल्डिंग में इलाज करने की जगह खुले आसमान में मरीज का इलाज होता है, क्योंकि इस भवन में मरीज और डॉक्टर खुद सुरक्षित नहीं है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नालन्दा गृह जिला है. इसके बावजूद नालन्दा जिले का सरमेरा प्रखण्ड का चेरो अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र उपेक्षित है. जबकि चेरो गाँव के स्वर्गीय आरपी शर्मा तीन बार एमएलए रह चुके है. 

ग्रामीणों ने कहा कि हमने टीवी और पेपर में सुना और देखा था कि बिहार का स्वास्थ्य विभाग भेंटीलेटर पर चला गया है. लेकिन जब अपने गांव के इस अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र चेरो की बदहाली को देखा तो विश्वास हुआ कि हमारे बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था की हालत कैसी होगी. आखिर हमारे गांव चेरो मे क्या कमी है, जो बिहार के सीएम नीतीश कुमार सात बार मुख्यमंत्री बन चुके है. इसके बावजूद  इस चेरो स्वास्थ्य केंद्र की बदहाल स्थिति को ठीक नहीं कर सके. इस सम्बन्ध में नवनिर्वाचित स्थानीय विधायक ने इस अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र चेरो को विभागीय कार्रवाई होने के बाद विकसित करने की बात कही है. उन्होंने कहा कि इस स्वास्थ्य केंद्र का हालात मेरे संज्ञान में है निश्चित तौर पर इस स्वास्थ्य केंद्र का जीर्णोद्धार होगा. 

नालंदा से राज की रिपोर्ट 


Find Us on Facebook

Trending News