बिहार विस में राष्ट्रीय गीत 'वंदे मातरम' की नहीं बजी धुन, विजय सिन्हा की शुरूआत का अवध बिहारी चौधरी ने किया खात्मा

बिहार विस में राष्ट्रीय गीत 'वंदे मातरम' की नहीं बजी धुन, विजय सिन्हा की शुरूआत का अवध बिहारी चौधरी ने किया खात्मा

PATNA: बिहार विधानसभा के शीतकालीन सत्र का आज समापन हो गया. इस सत्र में कुल पांच बैठकें हुई। शीतकालीन सत्र के दौरान जहरीली शराब के मुद्दे पर सदन में भारी हंगामा हुआ। विपक्ष के हंगामे के बीच कई दफे सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी. 2020 चुनाव में एनडीए के सत्ता में आने और स्पीकर की कुर्सी भाजपा के विजय कुमार सिन्हा को मिलने के बाद सदन में राष्ट्रगीत से समापन की प्रथा की शुरूआत की गई थी। अब महागठबंधन की सरकार है. नीतीश कुमार तब भी मुख्यमंत्री थे और अब भी, लेकिन अध्यक्ष की कुर्सी अब राजद के पास है. लिहाजा सदन के अनिश्चितकालीन स्थगित किये जाने से पहले राष्ट्रगीत वंंदे मातरम् गाने की प्रथा को खत्म कर दिया गया। 

विस में अब वंदे मातरम की धुन नहीं 

शीतकालीन सत्र के समापन से पहले विस स्पीकर अवध बिहारी चौधरी ने सदन में सरकारी कामों का बखान किया. इसके बाद सत्ता पक्ष और विपक्ष को धन्यवाद देते हुए और नये साल की अग्रिम बधाई देकर सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी। अनिश्चितकाल तक स्थगित किये जाने से पहले स्पीकर अवध बिहारी चौधरी ने वंदे मातरम् को सदन में नहीं गवाया गया। इस तरह से सदन के अंदर 2020 में जो व्यवस्था शुरू की गई थी उसे खत्म कर दिया गया. नई सरकार बनने के बाद विजय सिन्हा की कई पहल को नये स्पीकर ने खत्म कर दिया है. इसी कड़ी में वंदे मातरम से भी महागठबंधन की सरकार ने किनारा कर लिया है।  

Find Us on Facebook

Trending News