नेपाल-भारत के बीच जारी रहेगा रोटी-बेटी का संबंध! पड़ोसी देश से आई अच्छी खबर

नेपाल-भारत के बीच जारी रहेगा रोटी-बेटी का संबंध! पड़ोसी देश से आई अच्छी खबर

DESK: नेपाल और भारत के बीच लगातार तल्खी की ख़बरें आ रही हैं. बरसों से नेपाल के साथ बिहार का रोटी और बेटी का रिश्ता रहा है. ऐसे में नेपाल के साथ भारत की तल्खी चिंता बढ़ाती है.दरअसल कुछ दिन पहले तक भारत के साथ कई मुद्दों पर असहमति जता रही नेपाल सरकार सोमवार को बदली-बदली सी दिखी. बैठक में भारत की मदद से नेपाल के कई जगहों को रामायण सर्किट से जोड़ने की परियोजना को तेजी से आगे बढ़ाने पर भी सहमति भी बनी है, जिसका सीधा लाभ बिहार और नेपाल को मिलने वाला है. 

इसके तहत उत्तर प्रदेश के अयोध्या, नंदीग्राम, श्रृंगवेरपुर और चित्रकूट, बिहार के सीतामढ़ी, बक्सर और दरभंगा, मध्यप्रदेश के चित्रकूट, ओडिशा के महेंद्रगिरी, छत्तीसगढ़ के जगदलपुर, महाराष्ट्र के नासिक और नागपुर, तेलंगाना के भद्राचलम, कर्नाटक के हम्पी और तमिलनाडु के रामेश्वर को स्वदेश दर्शन योजना की रामायण परिपथ थीम के अंतर्गत चिह्नित किया गया है.

बता दें कि वर्ष 2018 में पीएम नरेंद्र मोदी की नेपाल यात्रा पर इस पर सहमति बनी थी, लेकिन अभी तक खास प्रगति नहीं हो पाई है. खास कर पीएम ओली हाल के दिनों में भगवान राम के जन्मस्थान को लेकर विवाद खड़ा करने की कोशिश कर रहे थे. गौरतलब है कि भारत सरकार ने स्वदेश दर्शन योजना की रामायण सर्किट थीम के तहत उत्तर प्रदेश और बिहार सहित नौ राज्यों में विकास के लिए 15 स्थानों की पहचान की थी.

गौरतलब है कि बिहार की सीमा से लगे सीमावर्ती क्षेत्र के दोनों देशों के लोगों को तो आपस में किसी भी प्रकार की दूरी की बात का कभी अहसास तक नहीं हुआ था. लेकिन, हाल के दिनों में उत्तराखंड के लिंप्याधूरा, लिपुलेख और कालापानी  को नेपाल द्वारा अपने नये राजनीतिक नक्शे में दिखाने को लेकर दोनों देशों के बीच दूरी बढ़ती दिखाई दे रही थी. इसका असर बिहार-नेपाल संबंधों पर भी दिख रहा था. बाढ़ के समय बिहार की नदियों का नेपाल की ओर से तटबंधों के मरम्मत में व्यवधान पैदा कर नेपाल ने अपना गैर जिम्मेदार रुख दिखाया था. इसके साथ ही भगवान श्रीराम को नेपाल का बताकर नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली ने संबंधों में और खटास पैदा कर दी. खास तौर पर भगवान श्रीराम और माता जानकी से भावनात्मक लगाव रखने वाले लोगों को तो भारत-नेपाल के बीच की ये तल्खी असहनीय थी. बहरहाल अब एक अच्छी खबर आई है.


Find Us on Facebook

Trending News