नीतीश कुमार कान खोलकर सुन लीजिये... आपकी कोई विचारधारा नहीं है, पूर्णिया से अमित शाह ने भरी सत्ता परिवर्तन की हुंकार

नीतीश कुमार कान खोलकर सुन लीजिये... आपकी कोई विचारधारा नहीं है, पूर्णिया से अमित शाह ने भरी सत्ता परिवर्तन की हुंकार

पटना. गृह मंत्री अमित शाह ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद नेता लालू यादव पर जमकर हमला बोला. उन्होंने शुक्रवार को पूर्णिया में जनसभा को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार को जमकर लताड़ा. शाह ने कहा कि सीमांचल में मेरे आने से लालू-नीतीश की जोड़ी को पेट में दर्द हो रहा है. आज मैं जब बिहार में आया हूं तब लालू और नीतीश की जोड़ी को पेट में दर्द हो रहा है। वो कह रहे हैं कि बिहार में झगड़ा लगाने आए हैं, कुछ करके जाएंगे। लालू जी झगड़ा लगाने के लिए मेरी जरूरत नहीं है, आप झगड़ा लगाने के लिए पर्याप्त हो, आपने पूरा जीवन यही काम किया है। लालू जब सरकार में जुड़ गए हैं तो बिहार में जंगलराज आना तय है. उन्होंने कहा कि नीतीश अब लालू की गोदी में बैठे हैं तो सीमांचल के जिलों में लोगों को भय होने लगा है. अमित शाह ने कहा कि हम सीमांचल के लोगों को आश्वस्त करते हैं कि सीमावर्ती जिले हिंदुस्तान का हिस्सा हैं. किसी को डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि केंद्र में मोदी की सरकार है. 

उन्होंने कहा कि बिहार की भूमि परिवर्तन का केंद्र रही है. अंग्रेजों या इमरजेंसी के खिलाफ बिहार से ही आंदोलन हुए. अब बदलाव की ऐसी ही राजनीति नीतीश के खिलाफ होगी. नीतीश हमेशा ही स्वार्थ और सत्ता की राजनीति करते हैं जबकि भाजपा सेवा और विकास की राजनीति की पक्षधर है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार भाजपा और जनादेश को धोखा दिया है. वे लोकसभा चुनाव नजदीक आता देख पीएम बनने की महत्वाकांक्षी में हैं. नीतीश एंटी कांग्रेस राजनीति से जन्म लिए लेकिन वे भाजपा की पीठ में छूरा घोंपकर लालू-कांग्रेस के साथ सरकार बना ली. 

शाह ने कहा, नीतीश कुमार कान खोलकर सुन लीजिये, आपकी कोई विचारधारा नहीं है. आपने राजनीति की शुरुआत से अब तक बार बार धोखा ही दिया है. देवीलाल को छोड़ा, लालू के साथ कपट किया. लालू को छोड़कर कांग्रेस की गोद में बैठे. उन्होंने कहा कि नीतीश ने जोर्ज फर्नांडिस को धोखा दिया. समता पार्टी उनके साथ बनाई और स्वास्थ्य बिगड़ने पर खुद अध्यक्ष बन गए. नीतीश ने शरद यादव, भाजपा, मांझी फिर से भाजपा को धोखा दिया. उन्होंने कहा कि लालू और नीतीश को कहना चाहता हूँ. आपने बार बार बिहार के साथ और यहां की जनता के साथ धोखा है. यहां के जनादेश का अपमान किया है. वोट मोदी के नाम से लिए और लालू की गोद में चले गए. इस बार के लोकसभा चुनाव में और फिर विधानसभा चुनाव में लालू-नीतीश का बिहार में सूपड़ा साफ हो जाएगा. 

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार कोई राजनीतिक विचारधारा के पक्षधर नहीं हैं। नीतीश जी समाजवाद छोड़कर लालू जी के साथ भी जा सकते हैं, जातिवादी राजनीति कर सकते हैं। नीतीश जी समाजवाद छोड़कर वामपंथियों, कांग्रेस के साथ भी बैठ सकते हैं। उन्होंने कहा, नीतीश जी, 2014 में भी आपने यही किया था, ना घर के रहे थे ना घाट के। लोकसभा चुनाव 2024 आने दीजिए, आपकी इस जोड़ी को बिहार की जनता सुपड़ा साफ कर देगी। 2025 में भी यहां भाजपा पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी।  


Find Us on Facebook

Trending News