लखीसराय नगर परिषद में सभापति के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव, एक तिहाई से ज्यादा पार्षदों ने ईओ को सौंपा आवेदन

लखीसराय नगर परिषद में सभापति के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव, एक तिहाई से ज्यादा पार्षदों ने ईओ को सौंपा आवेदन

LAKHISARAI :  नगर परिषद के वार्ड पार्षदों ने मुख्य पार्षद अरविंद पासवान के विरुद्ध बिगुल फूंक दिया है। सोमवार को नगर परिषद क्षेत्र अंतर्गत कुल 33 में से 13 वार्ड पार्षदों का हस्ताक्षरित आवेदन कार्यपालक पदाधिकारी को सौंप कर मुख्य पार्षद के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव लाने को लेकर बैठक बुलाने की मांग की गई है।

अविश्वास प्रस्ताव लाने को लेकर कार्यपालक पदाधिकारी को दिए गए आवेदन में वार्ड संख्या एक की वार्ड पार्षद सुधा कुमारी, वार्ड संख्या 33 की वार्ड पार्षद मंजू देवी, वार्ड संख्या आठ की वार्ड पार्षद नीलम देवी, वार्ड संख्या 28 की वार्ड पार्षद मुन्नी देवी, वार्ड संख्या 16 के वार्ड पार्षद गौतम कुमार, वार्ड संख्या नौ की वार्ड पार्षद मंजू देवी, वार्ड संख्या 14 के वार्ड पार्षद रंजीत कुमार, वार्ड संख्या 25 की वार्ड पार्षद आरती देवी, वार्ड संख्या 27 की वार्ड पार्षद शीला वर्मा, वार्ड संख्या 26 की वार्ड पार्षद कविता देवी, वार्ड संख्या 32 की वार्ड पार्षद सुषमा देवी, वार्ड संख्या 31 के वार्ड पार्षद हीरा साव एवं वार्ड संख्या चार की वार्ड पार्षद नीलू कुमारी का हस्ताक्षर है। हालांकि वार्ड संख्या 32 की वार्ड सदस्या सुषमा देवी ने कार्यपालक पदाधिकारी को अलग से एक आवेदन देकर कहा है कि मुख्य पार्षद के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव लाने को लेकर बैठक बुलाने के लिए वार्ड पार्षदों द्वारा दिए गए आवेदन पर वे गलतफहमी में आकर हस्ताक्षर की हैं। इसलिए उनके हस्ताक्षर को अमान्य समझा जाए। उनके आवेदन को अमान्य भी समझा जाता है तो मुख्य पार्षद के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव लाने को लेकर 12 वार्ड पार्षद सहमत हैं।


जबकि अविश्वास प्रस्ताव के लिए 33 में से 11 वार्ड पार्षदों का हस्ताक्षर जरूरी है। कार्यपालक पदाधिकारी को दिए आवेदन में वार्ड पार्षदों ने मुख्य पार्षद पर मनमाने ढंग से नियम के विरुद्ध नगर परिषद के कार्यों का निष्पादन करने, वित्तीय अनियमितता कर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने, सफाई के नाम पर एनजीओ के माध्यम से करोड़ों रुपये का घपला करने, अनावश्यक रूप से जरूरत से ज्यादा वायो शौचालय, डस्टबीन आदि सामान की खरीददारी करने, मोटी रकम लेकर अवैध तरीके से दैनिक मजदूर की बहाली करने आदि गंभीर आरोप लगाया गया है। इधर कार्यपालक पदाधिकारी आशुतोष आनंद चौधरी ने बताया कि मुख्य पार्षद के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव लाने को लेकर 33 में से 13 वार्ड पार्षदों का हस्ताक्षरित आवेदन दिया गया है। नियम के आलोक में आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Find Us on Facebook

Trending News