अब शहर से नहीं, बल्कि अपने विशिष्ट नाम से जाने जाएंगे देश भर में संचालित AIIMS, स्वास्थ्य विभाग ने कर ली है पूरी तैयारी

अब शहर से नहीं, बल्कि अपने विशिष्ट नाम से जाने जाएंगे देश भर में संचालित AIIMS, स्वास्थ्य विभाग ने कर ली है पूरी तैयारी

NEW DELHI : देश में फिलहाल 23 एम्स हैं, जिनमें कुछ संचालित हैं  और कुछ का निर्माण किया जा रहा है। लेकिन इन सभी एम्स को एक ही नाम से पहचाना जाता है। सिर्फ, एक ही बदलाव नजर आता है। वह है स्थान का। जिससे उस एम्स की पहचान होती है। अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी एम्स का अपना नाम देने का फैसला लिया है। जो कि उस एम्स के लिए होगा। इसी नाम से यह समझना आसान होगा कि शहर के एम्स की बात हो रही है। 

सौंप दी गई है सूची 

 सरकार ने क्षेत्रीय नायकों, स्वतंत्रता सेनानियों, ऐतिहासिक घटनाओं या क्षेत्र के स्मारकों या उनकी विशिष्ट भौगोलिक पहचान के आधार पर सभी एम्स को विशिष्ट नाम देने का प्रस्ताव तैयार किया है। जानकारी के अनुसार केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा इस मामले में सुझाव मांगे जाने के बाद अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के 23 में से अधिकांश ने नामों की सूची सौंप दी है।

तीन से चार नामों का सुझाव दिया

नाम बदलने के संबंध में विभिन्न एम्स को विशिष्ट नाम निर्दिष्ट करने के लिए सुझाव मांगे गए थे, जिन्हें प्रमुखता के स्थानीय या क्षेत्रीय नायकों, स्वतंत्रता सेनानियों, उस क्षेत्र की विशिष्ट भौगोलिक पहचान और क्षेत्र की प्रमुख ऐतिहासिक घटनाओं या स्मारकों से जोड़ा जा सकता है। इन प्रमुख स्वास्थ्य संस्थानों में से अधिकांश ने सुझाए गए नामों के लिए एक व्याख्यात्मक नोट के साथ तीन से चार नामों का सुझाव दिया है।

16 नए एम्स किए गए स्थापित

छह नए एम्स- बिहार (पटना), छत्तीसगढ़ (रायपुर), मध्य प्रदेश (भोपाल), ओडिशा (भुवनेश्वर), राजस्थान (जोधपुर) और उत्तराखंड (ऋषिकेश) को पीएमएसएसवाई के पहले चरण में मंजूरी दी गई थी और ये पूरी तरह कार्यात्मक हैं। वहीं, 2015 और 2022 के बीच स्थापित 16 एम्स में से 10 संस्थानों में एमबीबीएस और आउट पेशेंट विभाग की सेवाएं शुरू की गई हैं, जबकि अन्य दो में केवल एमबीबीएस कक्षाएं शुरू की गई हैं। शेष चार संस्थान विकास के विभिन्न चरणों में हैं।


Find Us on Facebook

Trending News