हर्ष फायरिंग में हुई मौत पर जिसने गोली चलाई, उसे छोड़ दूसरे को बना दिया आरोपी, 6 साल से न्याय के लिए दर-दर की ठोकर

 हर्ष फायरिंग में हुई मौत पर जिसने गोली चलाई, उसे छोड़ दूसरे को बना दिया आरोपी, 6 साल से न्याय के लिए दर-दर की ठोकर

NAWADA : नवादा जिले के हिसुआ थाना क्षेत्र के सोनसा निवासी अर्जुन राम के पुत्र सतीश कुमार 6 साल से न्याय के लिए दर-दर की ठोकर खा रहा है। एसपी को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाया है। पीड़ित युवक सतीश का कहना है कि वर्ष 2016 में मेरी बहन की शादी समारोह चल रहा था। बराती मिलन समारोह में हर्ष फायरिंग हुआ था। जिसमें दूल्हे के भाई को गोली लग गई। जिसका इलाज के दौरान मौत हो गई थी। लेकिन इस कांड में सगा भाई मनीष कुमार को छोड़कर मुझे अभियुक्त बना दिया गया है और 6 साल से लगातार न्याय की गुहार युवक के द्वारा लगाया जा रहा है। 

सतीश ने कहा है कि हमारे प्रति कोर्ट में स्पीडी ट्रायल कर हमें सजा दिलाने की कोशिश की जा रही है। इसी को लेकर मगध के आईजी से गया में मुलाकात की है जिसके बाद पूरे मामला को समझते हुए आईजी ने अनुसंधान की जांच करने का आदेश दिया गया है।

जानिए क्या है पूरा मामला

हिसुआ थाना क्षेत्र के सोनसा  गांव में सुरेंद्र प्रसाद की पुत्री रीना भारती की विवाह थी उसी दौरान हर्ष फायरिंग के दौरान दूल्हा दीपक पासवान के भाई सुरेश पासवान को पेट में गोली लगा था और पटना में इलाज के दौरान युवक की मौत हो गई थी। मृतक के भाई गणेश कुमार ने एफआईआर दर्ज सतीश कुमार को आरोपी बनाया था जिसके बाद पुलिस ने सतीश को गिरफ्तार भी किया था। 8 महीना के बाद जेल से बाहर आने के बाद न्याय के लिए लगातार सतीश कुमार भटक रहे हैं। सतीश कुमार ने कहा कि हमारे द्वारा कोई गोलीबारी नहीं की गई थी जो गोलीबारी किए थे उसका सबूत भी कोर्ट में हम पेश किए हैं। भाई मनीष कुमार के द्वारा गोली चलाया गया था इसकी सबूत कोर्ट को हम दिया है। मनीष कुमार की गोलीबारी हर्ष फायरिंग की घटना को देखने वाले भी गवाही में शामिल है। और कहा है कि मनीष कुमार ने ही गोली चलाई है हालांकि इस मामले पर पुलिस अभी भी जांच कर रही है।

रेलवे का सेक्शन इंजीनियर में लगी थी नौकरी मुकदमा के बाद छूट गई नौकरी

बताया जाता है कि सतीश कुमार की 5 तारीख 2016 के दिन रेलवे के सीनियर सेक्शन इंजीनियर के पद पर जॉइनिंग था लेकिन उसी दौरान पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर युवक की गिरफ्तारी कर लिए थे जिसके बाद आज तक युवक की नौकरी भी नहीं हुई और न्याय के लिए लगातार भटक रहे हैं।

Find Us on Facebook

Trending News