मोतिहारी निबंधन विभाग में भ्रष्टाचार का नंगा नाच, 5 महीने बाद दर्ज हुआ केस,कातिब को बनाया बलि का बकरा,बड़े अधिकारी पर कब होगी कार्रवाई?

मोतिहारी निबंधन विभाग में भ्रष्टाचार का नंगा नाच, 5 महीने बाद दर्ज हुआ केस,कातिब को बनाया बलि का बकरा,बड़े अधिकारी पर कब होगी कार्रवाई?

MOTIHARI: मोतिहारी के निबंधन विभाग में भ्रष्टाचार का नंगा खेल हो रहा। जिला अवर निबंधक खुलेआम नियमों को ताक पर रख कर काम कर रहे थे। हद तो तब हो गई थी जब डीएम के आदेश को रद्दी की टोकरी में डाल कर अवर निबंधक चहेतों को बचाने की हर मुमकिन कोशिश कर रहे थे। खैर 5 महीने बाद जिला अवर निबंधक ने डीएम के आदेश का तामिला कराया है। रजिस्ट्रार ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कराया है और अब आरोपी का लाईसेंस रद्द करने को लेकर जिलाधिकारी के पास फाइल भेजी गई है।  

मोतिहारी निबंधन विभाग में बड़ा खेल 

मोतिहारी के जिलाधिकारी ने 5 अक्टूबर 2020 को मोतिहारी के जिला अवर निबंधक को एक पत्र लिखा था। पत्र में यह बात प्रमाणित हुआ था कि सब रजिस्ट्रार और कातिब की मिलीभगत से सरकारी राजस्व का नुकसान हुआ है। डीएम ने शिकायत की जांच कराई और जांच रिपोर्ट मोतिहारी के जिला अवर निबंधक को भेज दिया और केस दर्ज कराने सब रजिस्ट्रार की भूमिका की जांच कराने का आदेश दिया था। मोतिहारी डीएम ने अपने पत्र में उल्लेख किया  है कि अरेराज निबंधन कार्यालय से कातिब ने जमीन के निबंधन में मिलीभगत कर लाखो रू के राजस्व की क्षति पहुंचाई है। भूमि की श्रेणी में छेड़छाड़ की गई जिससे राजस्व की भारी क्षति हुई। डीएम ने जिला अवर निबंधक मोतिहारी को आदेश दिया कि कातिब नागेन्द्र मिश्र के खिलाफ केस दर्ज कराई जाये। साथ ही कातिब के निबंधन लाईसेंस को रद्द कराई जाए। कर वंचना की राशि वसूली के लिए निलाम पत्र वाद दायर किया जाये। जिला अवर निबंधक अरेराज निबंधन कार्यालय में हुई गड़बड़ी की जांच करायें साथ ही अरेराज निबंधन कार्यालय के निबंधक से स्पष्टीकरण पूछा जाये। 

ये भी पढे़ें---मोतिहारी रजिस्ट्री ऑफिस में बड़ा खेल, अधिकारी की मिलीभगत से 8 बाहरी लोग अभिलेखागार में करते हैं काम,जांच में खुलासा...

5 महीने बाद केस दर्ज करने की खानापूर्ति

मोतिहारी डीएम ने अक्टूबर 2020 में यह आदेश दिया था। लेकिन इस आदेश को मोतिहारी के जिला अवर निबंधक कार्यालय में दबा दिया गया। जब जिला अवर निबंधन कार्यालय से जमीन के निबंधन में हुए फर्जीवाड़े की पोल खुली इसके बाद जिला अवर निबंधक ने चुपचाप वो पत्र अरेराज निबंधन कार्यालय को भेज दिया। इसके बाद अब जाकर आरोपी कातिब नागेन्द्र मिश्र के खिलाफ केस दर्ज करने का आवेधन अरेराज ओपी थाने में दिया गया है। अरेराज के सब रजिस्ट्रार से जब पूछा गया कि आदेश अक्टूबर में दिया गया और केस अभी क्यों दर्ज कराई जा रही। इस पर उन्होंने कहा कि तीन दिन पहले ही जिला अवर निबंधन कार्यालय से पत्र भेजा गया। इसके बाद वे केस दर्ज कराने के लिए थाने में आवेदन दिया। सब रजिस्ट्रार के आवेदन पर थाने में केस दर्ज किया गया है। अरेराज पुलिस केस दर्ज कर मामले की छानबीन में जुट गई है। वहीं मोतिहारी के जिला अवर निबंधक ने बताया कि आरोपी कातिब नागेन्द्र मिश्र का लाईसेंस रद्द करने के लिए प्रस्ताव जिलाधिकारी को भेज दी गई है। बड़ा सवाल यही है कि मोतिहारी के निबंधन कार्यालय में इतनी बड़ी-बड़ी गड़बड़ी हो रही । पांच महीने बाद अदना सा कातिब पर केस दर्ज किया गया लेकिन बड़े लोगों पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही। 

ये भी पढे़ें---न्यूज़4नेशन की खबर से मची सनसनी: बीजेपी MLC की पत्नी के नाम 11 बीघा जमीन रजिस्ट्री में हुए 'खेल' में जांच टीम गठित


Find Us on Facebook

Trending News