छठे चरण का पंचायत चुनाव : मुखिया सरपंच बनने की ख्वाहिश रह गई अधूरी, वोटिंग से पहले ही दुनिया छोड़ गए यह प्रत्याशी

छठे चरण का पंचायत चुनाव : मुखिया सरपंच बनने की ख्वाहिश रह गई अधूरी, वोटिंग से पहले ही दुनिया छोड़ गए यह प्रत्याशी

PATNA : बिहार में बुधवार को पंचायत चुनाव के छठे चरण के लिए वोटिंग की गई। इनमें 94 हजार के करीब प्रत्याशी ऐसे थे, जिनकी किस्मत ईवीएम और बैलेट बॉक्स में बंद हो गई। लेकिन कुछ प्रत्याशी ऐसे भी रहे, जिनके मुखिया सरपंच बनने की ख्वाहिश वोटिंग से पहले ही खत्म हो गई। 

पंचायत चुनाव में जिन प्रत्याशियों ने किस्मत आजमाई थी, उनमें नौ उम्मीदवार ऐसे थे, चुनाव चिह्न मिलने से पहले और प्रचार के दौरान इस दुनिया को छोड़ कर चले गए। छठे चरण में जिन नौ उम्मीदवारों की मौत हुई हैं, उनमें से 7 ग्राम पंचायत सदस्य के लिए,1 मुखिया और 1 पंच पद के लिए  राज्य निर्वाचन आयोग ने इन जगहों पर पुनर्मतदान कराने का फैसला लिया है।

चुनाव चिह्न मिलने के बाद हुई मौत

निर्वाचन आयोग से मिली जानकारी में यह नहीं बताया गया है कि उम्मीदवारों की मौत कैसे हुई है, लेकिन इसमें तारीख की जानकारी दी गई है। इसके मुताबिक, सभी की मौत 17 अक्टूबर से लेकर 29 अक्टूबर के बीच हुई है। चूंकि सभी प्रत्याशियों को चुनाव चिह्न आवंटित कर दिए गए थे, ऐसे में नियमानुसार किसी प्रत्याशी की मौत पर वहां चुनाव स्थगित कर दिया जाता है। कुछ माह पहले पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में भी ऐसा हुआ था।

चुनावी मैदान में खड़े जिन 9 उम्मीदवारों की मौत हुई हैं, उनमें से 7 ग्राम पंचायत सदस्य के लिए,1 मुखिया और 1 पंच पद के लिए चुनावी मैदान में उतरे थे। इनमें से 2 मुजफ्फरपुर, 1 वैशाली, 1 पूर्णिया, 1 समस्तीपुर, 1 पूर्वी चंपारण, 1 दरभंगा, 1 भोजपुर और 1 भागलपुर का उम्मीदवार शामिल है। मृत उम्मीदवारों में 5 पुरूष, 4 महिला उम्मीदवार शामिल है

Find Us on Facebook

Trending News