पटना हाईकोर्ट में जजों के 53 पद स्वीकृत, अक्टूबर में एक तिहाई हो जाएगी संख्या, मामलों की सुनवाई पर असर

पटना हाईकोर्ट में जजों के 53 पद स्वीकृत, अक्टूबर में एक तिहाई हो जाएगी संख्या, मामलों की सुनवाई पर असर

PATNA : पटना हाईकोर्ट में सुनवाई के लिए लंबित मामलों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. वहीं जजों की नियुक्ति नहीं होने और साथ जजों के सेवानिवृत होने से स्थिति गंभीर हो गई है. जजों की संख्या लगातार घटती जा रही है. गौरतलब है कि पटना हाईकोर्ट के समक्ष 2 लाख से ज्यादा मामले लंबित हैं. Covid महामारी के दौरान सुनवाई के लिए लंबित मामलों की संख्या और भी बढ़ गई हैं.

पटना हाईकोर्ट में कुल मिलाकर 53 जजों के स्वीकृत पद हैं, लेकिन चीफ जस्टिस संजय करोल समेत कुल जजों की संख्या 19 है . जस्टिस प्रभात कुमार झा आज सेवानिवृत हो गए. एक और जज इस वर्ष अक्टूबर माह में सेवानिवृत हो जाएगें. उस समय यदि और जजों की नियुक्ति नहीं हुई,तो इनकी कुल संख्या अठारह ही रह जाएगी. यह हाईकोर्ट में जजों के स्वीकृत पदों का एक तिहाई ही रह जाएगा. 

पटना हाईकोर्ट के एडवोकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष योगेश चन्द्र वर्मा लंबे समय से जजों को नियुक्त किये जाने की मांग सरकार से करते आ रहे हैं, लेकिन इस समस्या का अब तक समाधान नहीं हो पाया है।

Find Us on Facebook

Trending News